पश्चिम बंगाल में 9 जुलाई से होगा लॉकडाउन, जानें क्या-क्या रहेगा बंद

पश्चिम बंगाल के सीएम ममता बनर्जी ने स्थिति को देखते हुए सख्त लॉकडाउन के आदेश दिए हैं। पश्चिम बंगाल में 9 जुलाई को शाम बजे से लॉकडाउन लागू होगा. पूरे पश्चिम बंगाल में 31 जुलाई तक लॉकडाउन का आदेश पहले से ही था।

0
433
West Bengal Lockdown 2.0

पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस (Corona Virus) के कहर के चलते एक बार फिर लॉकडाउन (West Bengal Lockdown 2.0) किया गया है। सीएम ममता बनर्जी ने स्थिति को देखते हुए सख्त लॉकडाउन (West Bengal Lockdown 2.0) के आदेश दिए हैं। पश्चिम बंगाल में 9 जुलाई की शाम से लॉकडाउन लागू होगा।

कैबिनेट की बैठक में आज लिए गए ये अहम फैसले

पूरे पश्चिम बंगाल में 31 जुलाई तक लॉकडाउन का आदेश पहले से ही था। अब नए आदेश के अनुसार, राज्य के कई हिस्सों में और अधिक सख्त लॉकडाउन (West Bengal Lockdown 2.0) लागू करने का आदेश जारी किया गया है। पश्चिम बंगाल के कुल एक हज़ार इलाके सख्त लॉकडाउन के तहत रहेंगे।

राजीव गांधी फाउंडेशन में फंडिंग जांच करेगी स्पेशल कमेटी

जिन इलाको में कोरोना वायरस के अधिक मामले हैं, वहां बेहद सख्ती बरती जाएगी। पश्चिम बंगाल में कंटेनमेंट इलाके निर्धारित कर दिए गए हैं। इन इलाकों में किसी को भी आने-जाने की इजाजत नहीं होगी। स्थानीय प्रशासन ही लोगों की ज़रूरतें पूरी करने की कोशिश करेगा। सरकार के आदेश के अनुसार, कंटेनमेंट ज़ोन में सरकारी और प्राइवेट कार्यालय, शादी सहित किसी भी तरह का समारोह, यातायात, पूरा मार्केट, औद्योगिक और व्यापारिक गतिविधिययों के साथ ही सभी गैर ज़रूरी गतिविधियों पर रोक रहेगी।

Covaxin का ट्रायल जल्द होगा शुरू, पढ़े लेटेस्ट अपडेट

कोलकाता के कुल 33 इलाके हैं, जो कंटेनमेंट ज़ोन में रखे गए हैं। जिनमें उल्टादंग, फूलबागान, कंकुर्गाची, हुडको, बेलियाघाट, भवानीपुर, अलीपुर, बिजयगढ़, जादवपुर, न्यू अलीपुर, कस्बा, मुकुंदपुर, अजयनगर शामिल है, इसके साथ ही साउथ 24 परगना में 155 और नार्थ 24 परगना जिले के 219 जोन पूरी तरह से लॉकडाउन में रहेंगे।

Covid 19 Update: पिछले 24 घंटे में 22,752 नए केस

वही जो इलाके कंटेनमेंट ज़ोन में नहीं हैं, वहां ज़रूरत वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी। दवा, सब्जी आदि की दुकानें खुली रहेंगीं। पश्चिम बंगाल में अब तक कोरोना वायरस के 23 हज़ार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। जबकि इनमें से 15 हज़ार से अधिक लोग ठीक भी हुए हैं और 800 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here