भारत में राफेल आने के बाद पाकिस्तान में गूगल पर ये हो रहा है सर्च

अंबाला में राफेल का स्वागत किया गया। भारत ने वायुसेना के लिए 36 राफेल विमान खरीदने के लिए चार साल पहले फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था।

0
158
Rafale Trending in Pakistan
भारत में राफेल आने के बाद पाकिस्तान में गूगल पर ये हो रहा है सर्च

Delhi: 29 जुलाई को राफेल (Rafale) विमान अंबाला के एयर बेस पहुंच गया। राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Jets) के भारत आने की खबर के बाद से ही पड़ोसी देशों की बेचैनी बढ़ गई। राफेल की गूंज अंबाला से इस्लामाबाद तक सुनाई देने लगी। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान (Pakistan) में गूगल सर्च (Google Search) में राफेल ट्रेंड करने लगा। पाकिस्तान (Rafale Trending in Pakistan) में कोई राफेल की कीमत जानने के लिए तो कोई दुनिया का सबसे अच्छा फाइटर जेट सर्च करने में जुटा था। और कुछ पाकिस्तानी अंबाला खोज रहे थे।

जानिए कौन है राफेल को उड़ाकर भारत लाने वाले कश्मीरी पायलट

आपको बता दें की 29 जुलाई की सुबह 10 बजे से ही पाकिस्तान (Rafale Trending in Pakistan) में राफेल ट्रेंड करने लगा। बुधवार को सुखोई विमानों की निगहबानी में पांच आसमान को चीरते हुए जोरदार गर्जना के साथ आगे बढ़ रहे राफेल अंबाला एयरबेस पर उतरे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने खुद ट्वीट कर कहा कि बर्ड्स(विमान) सुरक्षित लैंड कर गए हैं। एयरपोर्ट पर उनका भव्य स्वागत किया गया। भारत ने वायुसेना के लिए 36 राफेल विमान खरीदने के लिए चार साल पहले फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था।

Rafale Landing in India: लो आ गया राफेल, देश के दुश्मनों का काल

29 जुलाई की सुबह 10 बजे से ही पाकिस्तान में राफेल ट्रेंड करने लगा। शाम तक यह टॉप ट्रेंड में आ गया। सिंध हो या ब्लूचिस्तान या फिर खैबर पख्तूनवा, पूरे पाकिस्तान में राफेल की धमक दिखने लगी। गूगल ट्रेंड के मुताबिक पाकिस्तान में बुधावार को rafale aircraft price, world best fighter jet, what is raale और ambala सर्च किया जा रहा था। इससे पता चलता है कि पाकिस्तानी न केवल राफेल के बारे में सबकुछ जान लेना चाहते थे बल्कि भारतीय वायुसेना के बारे में भी वो जानना चाहते थे।

Rafale in India: भारत की जमीन पर लैंड हुए राफेल विमान

वही कुछ पाकिस्तानी तो फाइटर एयरक्राफ्ट F-16 और राफेल बेहतर जानने के लिए f-16 vs rafale सर्च कर रहे थे। यही सर्च गुरुवार को भी जारी है। अभी भी गिलगित-बाल्टिस्तान, बलूचिस्तान, इस्लामाबाद राजधानी क्षेत्र, सिंध और पंजाब में राफेल ट्रेड कर रहा है। इससे पहले साल 1979 में भी ब्रिटेन के जगुआर विमान भारतीय बेड़े में शामिल होने के लिए पहली बार अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर उतरे थे। अंबाला में जगुआर की दो और मिग-21 बिसोन की एक टुकड़ी पहले ही तैनात हैं। अंबाला एक सामरिक महत्व का सैन्य अड्डा है, जहां पर ब्रह्मोस मिसाइल भी तैनात हैं। थलसेना की खड़गा स्ट्राइक कोर (2 कोर) का हेडक्वार्टर भी अंबाला एयरबेस के बेहद करीब है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here