नरम पड़े चीन के तेवर, तनाव वाले क्षेत्रों से सेना हटाने को राजी

मंगलवार यानी आज सीमा विवाद को लेकर रुस में चीन और रुस के साथ भारत की पहली त्रिपक्षीय विदेश मंत्री वार्ता भी होनी है।

0
366
India China Border Issue
File Picture

Delhi: एलएसी (LAC) पर भारत और चीन सीमा विवाद (India China Broder Issue) के बाद स्थितियों को सामान्य करने के लिए सोमवार को दोनों पक्षों ने सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता की। जिसके बाद के बाद चीन के तेवर नरम पड़ गए और तनाव वाले क्षेत्रों से सैनिकों को हटाने पर सहमति बनी है।

अपनी भूभागीय अखंडता से कोई समझौता नहीं: मनमोहन सिंह

भारतीय सेना ने कहा कि भारत और चीन के बीच सोमवार को हुई कॉर्प्स कमांडर स्तर की वार्ता सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक वातावरण में हुई। दोनों पक्ष आपसी सहमति से तनाव वाले इलाकों से पीछे हटने को तैयार हो गए हैं। बैठक में पूर्वी लद्दाख (India China Broder Issue) में सभी संघर्ष क्षेत्रों से सेनाओं के पीछे हटने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई और दोनों ही पक्ष इसपर अमल करेंगे।

सोमवार को मोल्डो में दोनों पक्षों के बीच करीब 11 घंटे तक सैन्य कमांडर स्तर की बातचीत हुई थी। भारत ने अडिग रहते हुए दो टूक कहा था कि गलवां, पेंगोंग त्सो और हॉट स्प्रिंग पर जब तक दो मई से पहले वाली स्थिति बहाल नहीं हो जाती पूरी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हालात नाजुक बने रहेंगे। आपको बता दे कि मंगलवार यानी आज सीमा विवाद को लेकर रुस में चीन और रुस के साथ भारत की पहली त्रिपक्षीय विदेश मंत्री वार्ता भी होनी है।”

सेना ने वीडियो जारी कर बिहार रेजीमेंट को बताया ‘बैटमैन’

15 जून की रात को दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। चीन को भी खासा नुकसान उठाना पड़ा था। इसके बाद चीन किसी भी हालत में पीछे हटने को तैयार नहीं था। झड़प के बाद से ही एशिया के दो सबसे बड़े मुल्कों के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया।

वहीं, अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में बताया गया कि दोनों पक्षों के बीच हुई हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए, जबकि 35 चीनी सैनिक मारे गए। इसके अलावा दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के कई जवानों को हिरासत में लिया, लेकिन उन्हें बाद में छोड़ दिया गया।

सीमा पर तनाव के बीच रक्षा मंत्री तीन दिवसीय दौरे पर रुस रवाना

इससे पहले छह जून को दोनों पक्षों के बीच हुई सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता को लेकर विदेश मंत्रालय ने कहा था कि दोनों पक्ष स्थिति को सुलझाने और सीमा क्षेत्रों में शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए सैन्य और कूटनीतिक जुड़ाव जारी रखेंगे। मंत्रालय ने कहा था कि दोनों पक्ष विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों के अनुसार सीमावर्ती क्षेत्रों में हुए विवाद को शांतिपूर्वक हल करने के लिए सहमत हुए और नेताओं के बीच द्विपक्षीय संबंधों को ध्यान में रखते हुए भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में शांति और स्थिरता समग्र विकास के लिए आवश्यक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here