कोरोना से ठीक हुए 90% मरीजों के फेफड़ों में असर कर रहा है वायरस

चीन के वुहान शहर से जन्म लेने वाले इस वायरस की चपेट में आए मरीजों के फेफड़ों पर लंबे समय तक असर की खबर सामने आई है।

0
508
Wuhan Lung Damage
Wuhan Lung Damage: कोरोना से ठीक हुए 90% मरीजों के फेफड़ों में असर कर रहा है वायरस

China: वुहान में कोरोना के कहर की नई तस्वीर सामने आई है। कोरोना से ठीक होने वाले अधिकांश लोगों के फेफड़ों (Wuhan Lung Damage) को जबरदस्त नुकसान पहुंचा है। जबकि कुछ की रिपोर्ट फिर से पॉजिटिव आने के बाद उन्हें क्वारांटाइन किया गया है।

वुहान के एक प्रमुख अस्पताल से ठीक हुए कोविड-19 (Covid-19) मरीजों के एक समूह के लिए गए नमूनों में से 90 प्रतिशत मरीजों के फेफड़ों (Wuhan Lung Damage) को नुकसान पहुंचने की बात सामने आई है जबकि पांच प्रतिशत मरीज दोबारा संक्रमित पाए गए है। वुहान विश्वविद्यालय के झोंगनन अस्पताल की आईसीयू के निदेशक पेंग झियोंग के नेतृत्व में एक दल ने अप्रैल में ठीक हो चुके 100 मरीजों से मिलकर उनकी सेहत का हाल पूछा। अध्ययन में शामिल मरीजों की उम्र 59 साल थी।

coronavirus update: 19 लाख के पार पहुंचा आंकड़ा, वायरस से मरने वालों की कुल संख्या 39,795 पहुंची

इसके अलावा बता दें कि बीजिंग यूनिवर्सिटी ऑफ चाइनीज मेडिसिन के डोंगझेमिन अस्पताल के डॉक्टर लियांग टेंगशियाओ के मुताबिक अस्पताल से छुट्टी मिलने के तीन महीने बाद भी ठीक हो चुके कुछ मरीजों को ऑक्सीजन मशीन की जरूरत पड़ती है।

नतीजों में यह भी सामने आया कि नए कोरोना वायरस के खिलाफ बनी एंटीबॉडीज 100 मरीजों में से 10 फीसदी में अब नहीं हैं। रिपोर्ट के अनुसार, कोविड19 न्यूक्लीइक एसिड जांच में उनमें से पांच प्रतिशत के नतीजे नेगेटिव मिले, लेकिन इम्यूनोग्लोबुलिन जांच में उनमें संक्रमण पाया गया, जिसके बाद उन्हें फिर से क्वारांटाइन किया गया।

वहीं खबर में कहा गया कि मरीज अवसाद और कलंक की भावना से जूझ रहे हैं। ठीक हो चुके अधिकतर मरीजों ने बताया कि उनके परिवार वाले अब भी एक मेज पर बैठकर उनके साथ खाना खाने के इच्छुक नहीं थे। इसमें कहा गया कि ठीक हो चुके मरीजों में से आधे से कम ही काम पर लौटे। यह नतीजे महत्वपूर्ण हैं क्योंकि कोरोना वायरस संक्रमण सबसे पहले वुहान में ही सामने आया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here