संसद परिसर में ट्रंप समर्थकों ने मचाया बवाल, अब तक चार की मौत

हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। बताया जा रहा है कि अमेरिकी कैपिटल परिसर में इस तरह की घटना देखने को नहीं मिली है।

0
206
Violence in America
हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। बताया जा रहा है कि अमेरिकी कैपिटल परिसर में इस तरह की घटना देखने को नहीं मिली है।

America: अमेरिका में हुई हिंसा (Violence in America) थमने का नाम नहीं ले रही है। बताया जा रहा है कि अमेरिकी कैपिटल परिसर में इस तरह की घटना देखने को नहीं मिली है। 220 सालों में इस इमारत पर गोलीबारी भी हुई, बम भी फोड़े गए। लेकिन इतनी भारी मात्रा में हल्ला मचाती भीड़, संसद के खंबो पर चढ़ते लोग, हिंसा मचाती भीड़ आपको हैरान कर देगी। बता दें अमेरिका में कैपिटल परिसर के बाहर राष्ट्रपति ट्रंप और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हुई है, जिसके बाद से परिसर में लॉकडाउन (Violence in America) कर दिया गया है। 

अफगान शरणार्थियों पर पाकिस्तान की कार्रवाई, जानें वजह

कैपिटल हिल (Violence in America) में चल रही कार्यवाही के बाद से जब मार्च निकाला गया तो हंगामा होते देख सुरक्षा को बढ़ा दिया गया। इसके बावजूद ये बवाल रुका नहीं और देखते ही देखते सभी समर्थक कैपिटल परिसर तक चले गए। सुरक्षाबलों ने इस दौरान उन्हें रोकने के लिए लिए लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया, लेकिन भीड़ थमने का नाम नहीं ले रही। पुलिस के मुताबिक इस हिंसा में चार लोगों की मौत हो गई है। इनमे से एक महिला भी शामिल है। जब पूरे इलाके को खाली करवाया गया तो ट्रंप समर्थकों के पास बंदूकों के अलावा अन्य खतरनाक चीजें भी मौजूद थीं।

पीएम ने किया ट्वीट-

पीएम मोदी (PM Modi) ने ट्विट कर लिखा कि ‘वाशिंगटन डीसी में हिंसा को देखकर काफी दुखी हूं’. शांति जारी रहनी चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा। लोकतांत्रिक प्रक्रिया के बावजूद गैरकानूनी विरोध प्रदर्शनों के माध्यम से विकृत नहीं होने दिया जा सकता है। 

पीएम के पिता ने मांगी फ्रांस की नागरिकता, जानिए क्या पूरा मामला

अमेरिकी नवनिर्वाचित राष्ट्रपति बिडेन (Joe Biden) ने कहा कि ‘मैं रष्ट्रपति ट्रंप (Donald Trump) से कहता हूं कि वो अपनी शपथ को पूरा करने के लिए टेलीवीजन पर जाएं और संविधान की रक्षा करें और इस घेराबंदी को खत्म करवा दे’। बाइडेन ने ये भी कहा कि मैं साफ कर दूं कि कैपिटल बिल्डिंग पर जो हंगामा हमने देखा हम वैसे नहीं हैं। ये कानून न मानने वाले अतिवादियों की छोटी संख्या है। बाइडेन ने इसे राजद्रोह करार दे दिया है। 

दुनिया से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें World News In hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here