चुनाव में जीत के लिए ट्रंप चीन पर गिरा सकते है मिसाइल!

दक्षिणी चीन सागर में ताइवान के साथ हो रहे तनाव को लेकर अमेरिका में मिसाइल हमले का डर पैदा हो गया है।

0
165
US China Tension)
दक्षिणी चीन सागर में ताइवान के साथ हो रहे तनाव को लेकर अमेरिका में मिसाइल हमले का डर पैदा हो गया है।

अमेरिका: दक्षिणी चीन सागर में ताइवान के साथ हो रहे तनाव को लेकर अमेरिका में मिसाइल (US China Tension) हमले का डर पैदा हो गया है। इस तनाव के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनावी जीत हासिल करने के लिए चाइना पर हमला करवा सकते हैं। ताइवान को लेकर चीन और अमेरिका में तनाव बढ़ता ही जा रहा है। इससे पहले ग्‍लोबल टाइम्‍स ने ही धमकी दी थी कि अगर अमेरिका की सेना ताइवान वापस लौटी तो चीन में युद्ध छीड़ जाएगा। ग्‍लोबल टाइम्‍स के एडिटर हू शिजिन ने अमेरिका और ताइवान को धमकाते हुए कहा कि चीन अलगाव रोधी कानून एक ऐसा टाइगर है जिसके दांत भी हैं। 

हमले से नाराज अमेरिका ने इराक को दी इस कार्रवाई की चेतावनी

हू शिजिन ने ट्वीट करके लिखा, ‘मैं अमेरिका और ताइवान (US China Tension) में इस तरह की सोच रखने वाले लोगों को निश्चित रूप से चेतावनी देना चाहता हूं। एक बार अगर ताइवान में अमेरिकी सेना के वापस लौटने का फैसला करते हैं तो चीनी सेना निश्चित रूप से अपने क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए एक न्‍याय युद्ध शुरू कर देगी।

ग्‍लोबल टाइम्‍स ने विश्‍लेषकों के हवाले से कहा कि ताइवान (US China Tension) में विदेश हस्‍तक्षेप और ताइवान के अलगाव समर्थक लोगों के खिलाफ ताइवान स्‍ट्रेट में चल रहे व्‍यापक युद्धाभ्‍यास के बीच अमेरिकी सैन्‍य जर्नल में इस तरह सेना को भेजने का सुझाव दिया गया है। अगर अमेरिका सेना भेजता है तो इससे चीन और अमेरिका के बीच हुआ समझौता टूट जाएगा। इस तरह का सुझाव दोनों देशे के लिए नुकासानदायाक साबित हो सकता हैं। 

अमेरिका में चुनाव को लेकर सरगर्मियां हुई तेज, क्या ट्रंप की होगी हार?

इससे पहले अमेरिकी सैन्‍य पत्रिका में सुझाव दिया गया था कि पूर्वी एशिया में क्षेत्रीय शक्ति संतुलन अमेरिका और ताइवान (US China Tension) से हटकर चीन की ओर जा रहा है। ऐसे में अगर अमेरिका ताइवान की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है तो उसे ताइवान में सेना की तैनाती पर विचार करना होगा। इस लेख में चेतावनी दी गई है कि वर्तमान शक्ति संतुलन को देखते हुए चीन के अचानक हमले का डर है। बता दें कि साल 1979 के ताइवान रिलेशन ऐक्‍ट के तहत अमेरिका कानूनी रूप से ताइवान की मदद के लिए सही है।

——————————————————————————————————

देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here