इजरायल और अरब देशों के बीच 26 साल बाद हुआ शांति समझौता

इजरायल ने राजनयिक संबंध सामान्य करने के लिए संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और बहरीन के साथ व्हाइट हाउस में शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए।

0
182
UAE Bahrain Israel Agreement
इजरायल और अरब देशों के बीच 26 साल बाद हुआ शांति समझौता

Washington: संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और बहरीन (Bahrain) ने इजराइल (Israel) के साथ प्रस्तावित ऐतिहासिक शांति समझौते पर हस्ताक्षर किया (UAE Bahrain Israel Agreement) है। वाइट हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की अध्यक्षता में ये समारोह हुआ। इस दौरान दोनों यूएई और बहरीन की सरकारों के प्रतिनिधि और इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू भी मौजूद रहे।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने इस समझौते को (UAE Bahrain Israel Agreement) ‘नए मध्य पूर्व की शुरुआत’ बताया और कहा कि इससे दुनिया के एक अहम हिस्से में अब शांति स्थापित की जा सकेगी। उन्होंने समझौते पर दस्तख़त का एक वीडियो शेयर किया और लिखा, “दशकों के विभाजन और संघर्ष के बाद आज हमने एक नए मिडिल ईस्ट की शुरुआत की है। इसराइल, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन के लोगों को बधाई। भगवान आप सबका भला करे!”

बता दें कि अब यूएई और बहरीन तीसरे और चौथे अरब देश हो गए हैं जिन्होंने 1948 में स्थापित हुए इजरायल को मान्यता दी है। दोनों देशों से पहले सिर्फ मिस्र और जॉर्डन ही ऐसे अरब देश थे जिन्होंने इजरायल को 1978 और 1994 में मान्यता दी थी। दशकों से ज्यादातर अरब देश इजरायल का यह कहते हुए बहिष्कार करते आए हैं कि जब तक फिलिस्तीन का विवाद हल नहीं हो जाता तब तक वे उसके साथ कोई रिश्ता नहीं रखेंगे।

बिल गेट्स ने दिखाया भरोसा, बोले कोरोना वैक्सीन के सबसे ज्‍यादा डोज बनाएगा भारत

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) ने भी इस समझौते का स्वागत किया। उनहोंने कहा, ‘आज इतिहास के करवट की दिन है। ये शांति की नई सुबह लेकर आएगा।’ फिलीस्तीन के नेता महमूद अब्बास ने कहा कि मध्य पूर्व में शांति तभी आ सकती जब इसराइल वहां कब्ज़ा की गई जगहों से पीछे हट जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here