भारत की राह पर अमेरिका, टिकटॉक को लेकर कही ये बात

माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस से बात कर रही है। इसके तहत माइक्रोसॉफ्ट अमेरिका में टिकटॉक का बिजनेस खरीद सकती है।

0
288
TikTok App Banned
भारत की राह पर अमेरिका, टिकटॉक को लेकर कही ये बात

Delhi: भारत में टिकटॉक ऐप बैन (TikTok App Banned) होने के बाद अब अमेरिका (America) भी इस पर विचार कर रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (President Donald Trump) ने व्हाइट हाउस में मीडिया से बातचीत के दौरान इसकी जानकारी दी है। ट्रम्प (Donald Trump) ने शुक्रवार को कहा ‘टिकटॉक ऐप को बैन किए जाने पर विचार जारी है। हम टिकटॉक (TikTok) को बैन कर सकते हैं। कुछ और भी विकल्प हैं। देखते हैं, इस मामले में आगे क्या होता है। इंतजार करना चाहिए।’ हालाकि ट्रम्प पहले भी कई बार टिकटॉक पर बैन की बात कह चुके हैं। विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और कई बड़े अफसर भी उनकी बात दोहरा चुके हैं। अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, टिकटॉक से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है। यह लोगों की निजी जानकारी चीन भेजता है।

पाकिस्तान का अफगानिस्तान पर रॉकेट हमला, 9 लोगों की मौत

इसके साथ ही ये भी खबर है कि माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस (ByteDance) से बात कर रही है। इसके तहत माइक्रोसॉफ्ट अमेरिका में टिकटॉक का बिजनेस खरीद सकती है। और उम्मीद की जा रही है कि सोमवार तक सौदा तय हो सकता है। पिछले हफ्ते फाइनेंशियल टाइम्स ने दावा किया था कि अमेरिकी कंपनी सिकोइया और जनरल अटलांटिका इसे खरीदने की योजना बना रही है। दोनों कंपनियां ट्रेजरी विभाग से यह पता लगा रही थीं कि अमेरिकी कंपनियों के खरीदने पर क्या बैन (TikTok App Banned) रुकवाया जा सकता है या नहीं।

वही सूत्रों से जानकारी मिली है कि ट्रम्प प्रशासन बाइटडांस को टिकटॉक से मालिकाना हक बेचने का आदेश दे सकता है। इससे जुड़ा आदेश एक दो दिन में जारी हो सकता है। साथ ही टिकटॉक बैन करने का कई नेताओं ने समर्थन किया। सीनेटर मार्को रुबियो ने शुक्रवार को कहा कि मौजूदा फॉर्मेट में यह ऐप हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है। कुछ सीनेटर्स ने बैन की मांग को लेकर अटॉर्नी जनरल को लेटर भी लिखा है।

भारत में राफेल आने के बाद पाकिस्तान में गूगल पर ये हो रहा है सर्च

टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइट डांस के ऑफिस लास एंजिल्स, लंदन, पेरिस, बर्लिन, दुबई, मुंबई, सिंगापुर, जकार्ता, सिओल और टोक्यो में हैं। टिकटॉक मैनेजमेंट कुछ महीनों से बीजिंग से दूरी बनाने में जुटा है। इसी कड़ी में कंपनी ने पिछले महीने अपना हेडक्वार्टर बीजिंग से वॉशिंगटन शिफ्ट करने की बात भी कही थी। इसने अपने ऊपर लगे जासूसी करने के आरोपों से भी इनकार किया था। मई में ही टिकटॉक ने डिजनी से जुड़े केविन मेयर को अपना सीईओ बनाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here