सबूत मांगता तालिबान, अल जवाहरी की मौत के दावे पर उठा रहा अमेरिका पर सवाल

0
49

हाल ही में अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में अमेरिकी ड्रोन हमले में आतंकी संगठन अल-कायदा (Al Qaeda) के सरगना अल-जवाहिरी (Al Zawahiri) के मारे जाने की खबर सामने आई थी। इस खबर से तालिबान (Taliban) में काफी हलचल पैदा हो गई है। तालिबान का कहना है कि उनके नेतृत्व को इस बात की जानकारी नहीं थी कि अल-जवाहिरी काबुल में स्थित है। अल-जवाहिरी के अफ़ग़ानिस्तान में मारे जाने से पूरी दुनिया का विश्वास कम होता नज़र आ रहा है। इस बात का फर्क सीधे तौर पर तालिबान को एक देश की मान्यता देने में पड़ सकता है।

तालिबान (Taliban) ने इसका हल निकालने का एक नया तरीका ढूंढ निकाला है। तालिबान इस बात का जवाव तलब करेगा की मारा गया इंसान अल-जवाहरी ही था। गुरुवार को तालिबान के एक नेता ने इस बात का खुलासा किया कि अमेरिका के ये दावे सच हैं या जूझ इस बात की जाँच की जाए।

अमेरिका ने अपनी रिपोर्ट में ये दावा किया है कि अल जवाहरी अपने ठिकाने की बालकनी में खड़ा था तभी उसने ड्रोन से हमले कर उसे वहीं ढेर कर दिया। अमेरिका ने अलजवाहरी की मौत पर कहा कि अब उसका बदला पूरा हो गया है।

तालिबान के प्रतिनिधि सुहैल शाहीन ने संयुक्त राष्ट्र में कहा कि सरकार और नेतृत्व को इस बात की बिलकुल जानकारी नहीं थी अल जवाहरी काबुल में छिपा हुआ है और न ही इसका सबूत दिया है। दोहा में मीडिया से मुखातिब होते हुए ये बात सुहैल शाहीन ने कही।

फंड में आ सकती है दिक्कत

उन्होंने कहा कि जांच चल रही है यह जानने के लिए कि अमेरिका (America) के दावे में कितनी सच्चाई है और जाँच के बाद उसके नतीजों को भी सार्वजनिक किया जाएगा। उनका कहना है कि अमेरिका की इस तरह की प्रतिक्रिया से अंतरराष्ट्रीय मान्यता और जब्त हुए कई बिलियन डॉलर के फंड में दिक्कत आ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here