OCEANIX Busan: यह कोई फ़िल्मी दुनिया नहीं, रियल लाइफ में भी देखने को मिलेगा पानी पर तैरता शहर

सीईओ फिलिप हॉफमैन ने कहा कि हम OCEANIX Busan का निर्माण कर रहे हैं। इसका मुख्य उद्देश्य है तट पर रहने वाले लोगों की मदद करना है

0
93
OCEANIX Busan: यह कोई फ़िल्मी दुनिया नहीं रियल लाइफ में भी देखने को मिलेगा पानी पर तैरता शहर

OCEANIX Busan: आपने पानी में तैरते हुए दुनियाभर की चीज़ें सुनी होंगी लेकिन पहली बार आप देखेंगे एक अलग नज़ारा जिसमे होगा ‘पानी पर तैरता हुआ शहर’। सुनने में यह भले ही किसी साइंस-फिक्शन फिल्म के जैसा लगे लेकिन कुछ दिनों में यह हकीकत बनकर दुनिया के सामने होगा। यह अजूबा साउथ कोरिया (South Korea) के बुसान शहर में होने वाला है। कारनामा संयुक्त राष्ट्र के समर्थन से वैज्ञानिक बुसान में दुनिया के पहले तैरने वाले शहर का प्रोटोटाइप विकसित कर रहे हैं। इस प्रोजेक्ट का OCEANIX नाम दिया गया है। इस प्रोजेक्ट की घोषणा पिछले साल ही कर दी गई थी।

इस प्रोजेक्ट की कुछ तस्वीरें सामने आई हैं, जिसमे एक बेहतरीन डिज़ाइन दिया गया है। इन तस्वीरों में देखा जा सकता है कि एक-दूसरे से जुड़े प्लेटफॉर्म कुल 15.5 एकड़ के क्षेत्रफल को ही कवर करेंगे जिसमे लगभग 12000 लोगों को रहने के लिए पर्याप्त जगह मिल सकेगी। बताया जा रहा है कि पानी पर तैरते इस शहर के निर्माण में कुल 200 मिलियन डॉलर यानी 15 अरब रुपए से भी ज्यादा खर्च होंगे और इसको 2025 तक बनाकर तैयार किया जाएगा।

इस प्रोजेक्ट का मिशन है तटीय इलाकों पर रहने वालों की मदद करना

OCEANIX के सीईओ फिलिप हॉफमैन (CEO Philip Hoffman) ने कहा कि हम OCEANIX Busan का निर्माण कर रहे हैं। इसका मुख्य उद्देश्य है तट पर रहने वाले लोगों की मदद करना है, क्योंकि समुद्र का बढ़ता जलस्तर तटीय लोगों के खतरा बना हुआ है। OCEANIX के मुताबिक दुनिया में पांच में से दो व्यक्ति तट से 100 किमी के दायरे में ही रहते हैं। हर साल बाढ़ के चलते लाखों लोग अपने घर छोड़ने के लिए मजबूर रहते हैं।

पानी की वजह से शहर में कम ऊंची होंगी इमारतें

यह नया पानी में तैरता शहर कई हिस्सों में बंटा होगा जिसमें ठहरने, रिसर्च और आवास के लिए सुविधाएं मौजूद होंगी और शहर में इमारतों की ऊंचाई कम राखी जाएगी, क्योंकि ज्यादा ऊँची इमारतें बनाने से इसको हवा प्रभावित कर सकती है। इस शहर की इमारतें सात मंजिल से कम ऊंचाई वाली होंगी। बुसान में गर्मियां बेहद झुलसाने वाली होती हैं इसलिए इमारतों की छतों को बेहद छायादार बनाया जाएगा ताकि इनका इस्तेमाल सौर्य ऊर्जा (Solar Energy) के लिए किया जा सके।

पहले तो इस शहर की आबादी कुल में 12,000 लोग शामिल होंगे। लेकिन निर्माताओं का कहना है कि भविष्य में हम इस शहर की आबादी एक लाख तक बढ़ा सकते हैं। इस शहर का हर द्वीप आकार में षट्कोणीय यानि छह कोने वाला होगा। सभी पर चूना पत्थर की परत चढ़ी होगी जोकि कंक्रीट से तीन गुना ज्यादा मजबूत होता है। अन्य प्रमुख विशेषताओं में ग्रीनहाउस, नेट जीरो एनर्जी, खाना, इनोवेटिव मोबिलिटी भी शहर में मौजूद होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here