भारत के साथ खड़ा रहने पर अमेरिका राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कही ये बात…

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा कि अगर वह राष्ट्रपति बने तो उनका प्रशासन खतरों से निपटने में हमेशा भारत के साथ खड़ा रहेगा।

0
388
India-America Relationship
भारत के साथ खड़ा रहने पर अमेरिका राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कही ये बात...

Washington: अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी (democratic party) के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन (Joe Biden) ने कहा भारत अपने ही क्षेत्र और सीमाओं पर खतरों का सामना कर रहा है। अगर वह राष्ट्रपति बने तो उनका प्रशासन खतरों से निपटने में हमेशा भारत के साथ (India-America Relationship) खड़ा रहेगा।

कौन है कमला हैरिस, जो बनीं अमेरिकी उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार

इसके अलावा यह वादा भी किया कि वह भारतीय-अमेरिकी समुदाय (Indo-American Community) पर भरोसा करते रहेंगे, क्योंकि यह समुदाय दोनों देशों को जोड़ता है। वहीं जो बाइडेन ने शनिवार को ट्रंप प्रशासन के लीगल इमिग्रेशन और एच1बी वीजा पर अचानक लिए जाने वाले फैसले को नुकसानदायक बताया। उन्होंने इमिग्रेशन पॉलिसी को लेकर ट्रंप प्रशासन की आलोचना भी की।

जो बिडेन ने भारत के स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय-अमेरिकी समुदाय को संबोधित करते हुए कहा था, ’15 साल पहले मैं भारत के साथ असैन्य परमाणु समझौते को मंजूरी देने की कोशिशों का नेतृत्व कर रहा था। मैंने कहा था कि अगर अमेरिका और भारत निकट मित्र और साझेदार (India-America Relationship) बनते हैं तो दुनिया ज्यादा सुरक्षित हो जाएगी।’

अमेरिका तैयार कर रहा है एक नया कोरोना वायरस स्ट्रेन

इसके अलावा उन्होंने कहा कि अगर वे जीतते हैं तो इंडियन-अमेरिकन डायस्पोरा का भरोसा बनाए रखेंगे जो कि दोनों देशों के संबंधों को मजबूत बनाते हैं। वहीं उन्होंने बताया की ओबामा प्रशासन (Obama Government) के समय में देश के इतिहास में किसी भी अन्य प्रशासन की तुलना में सबसे अधिक भारतीय-अमेरिकी थे और इस मुहिम में वरिष्ठ स्तरों पर भारतीय-अमेरिकी सदस्य हैं। मुहिम के शीर्ष में कमला हैरिस हैं, जो अमेरिका के इतिहास में पहली भारतीय-अमेरिकी उपराष्ट्रपति होंगी.’

दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ाने के बारे में जो बिडेन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन एवं वैश्विक स्वाथ्य सुरक्षा जैसी बड़ी वैश्विक चुनौतियों से निपटने पर दोनों देश काम करेंगे। वह उन लोकतंत्रों को मजबूत करने के लिए काम करेंगे, जिनकी ताकत उनकी विविधता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here