फोन में आसानी से कैसे जाता है Pegasus Spyware, क्या है स्पाइवेयर

पेगासस स्पाईवेयर काफी चर्चा में चल रहा है। इसका नाम 2019 में सुना गया था। उस वक्त कुछ वॉट्सऐप यूज़र्स इसका शिकार हुए थे।

0
245
Pegasus Spyware
पेगासस स्पाईवेयर काफी चर्चा में चल रहा है। इसका नाम 2019 में सुना गया था। उस वक्त कुछ वॉट्सऐप यूज़र्स इसका शिकार हुए थे।

भारत में पेगासस स्पाईवेयर (Pegasus Spyware) काफी चर्चा में चल रहा है। इसका नाम 2019 में सुना गया था। उस वक्त कुछ वॉट्सऐप यूज़र्स इसका शिकार हुए थे। इस लिस्ट में कई पत्रकार और कार्यकर्ता शामिल थे। भारत में 40 से ज्यादा पत्रकार, कार्यकर्ता और बाकी प्रमुख लोगों पर शिंकजा हैं। आइए जानते हैं क्या है ये Pegasus Spyware और कैसे ये वॉट्सऐप में घुस जाता है।

क्या है पेगासस

बता दें पेगासस पहली बार 2016 में सुर्खियों में आया था। एक संदिग्ध का मैसेज मिलने के बाद से इजारायल में बवाल मच गया था। क्योंकि पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus Spyware) आईफोन यूजर्स को टारगेट कर रहा था। इसके बाद एप्पल ने आईओएस का अपडेटेड वर्जन बना दिया। पेगासस फोन हैक करने लगा था। तब जाकर एक्सपर्ट ने कहा कि ये स्पाइवेयर एंड्रॉयड फोन को भी प्रभावित कर सकता है।

दरअसल, आपकी एंड टू एंड एनक्रिप्टेड चैट को भी एक्सेस कर सकता है। यूजर्स की ऐप एक्टिविटी को ट्रैक कर सकता है. इसके अलावा यह आपकी लोकेशन, डेटा और वीडियो कैमरा के डेटा को भी प्रभावित कर सकता है। अहम बात ये है कि दुनिया भर की सरकारें लोगों की जासूसी करने के लिए स्पाइवेयर का इस्तेमाल कर रही है।

कैसे बचे स्पाइवेयर से

तमाम कंपनियों ने एप्स और फोन की सिक्योरिटी काफी अच्छी कर दी है। अगर आप अपने आईफोन या एंड्रॉयड में एप्स के लेटेस्ट वर्जन का इस्तेमाल करेंगे, तो आपके फोन के हैक होने की आशंका कम हो सकती है। इसलिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट की सिक्योरिटी चेक करते रहें। अगर आपको कोई भी संदिग्ध मैसेज या लिंक आए तो उस पर क्लिक ना करें। 

फोन में हो जाता है इंस्टॉल

टोरंटो के सिटीजन लैब ने इस स्पाईवेयर के बारे में कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए है। बताया गया कि पेगासस स्पाईवेयर इतना खतरनाक है कि बिना यूजर के परमिशन के वो फोन में इंस्टॉल हो जाता है और इसके जरिए जासूसी शुरू हो जाती है। दुनियाभर में करीब 45 देशों में ये स्पाईवेयर एक्टिव था। 

Also Read: एक दिन में 17 मिनट स्मार्टफोन चलाने से हो सकता है कैंसर, जानिए स्टडी क्या कहती है…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here