रक्षा मंत्री का ईरान दौरा: जानिए कैसे चीन को घेरेगा भारत

अमेरिका के दबाव में कई देशों ने ईरान से दूरी बना ली है. वही चीन ने ईरान के साथ एक डील की जिसके के मुताबिक चीन बहुत कम दाम में अगले 25 साल तक ईरान से तेल ख़रीदेगा.

0
315
Iran
रक्षा मंत्री का ईरान दौरा: जानिए कैसे चीन को घेरेगा भारत

Delhi: भारत ने रुस (Rusia) में लद्दाख (Ladakh) मुद्दें पर चीन को सीधा संदेश दिया कि भारत (India) अपनी संप्रभुता से समझौता नहीं कर सकता. इसके 24 घंटे में चीन (China) को दूसरा सबक सिखाते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) मॉस्को से अचानक तेहरान (Tehran) के दौरे पर पहुंच गए. जहां वे आज ईरान (Iran) के रक्षा मंत्री (Defence Minister) से मुलाक़ात करेंगे. अपने इस दौरे में राजनाथ सिंह चीन को कई मोर्चों पर मात देने वाले हैं. आपको बता दें कि रक्षा मंत्री का अचानक ईरान दौरा चीन को एक दो नहीं कई मोर्चों पर परेशान कर सकता है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के दौरे से भारत के खिलाफ चीन और पाकिस्तान गठबंधन और चीन के परमाणु प्लान पर बहुत बड़ी चोट लगेगी.

देश में Covaxin का दूसरा ट्रायल होगा शुरू, पहले फेज को मिली मंजूरी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने मॉस्को से तेहरान के लिए निकलने से पहले ट्वीट किया. ट्वीट में लिखा था कि ”मास्को से तेहरान के लिए निकल रहा हूं, मैं ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातमी से मिलूंगा। राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री”.

आपको बता दें कि अमेरिका के दबाव में कई देशों ने ईरान से दूरी बना ली है. वही चीन ने ईरान के साथ एक डील की जिसके के मुताबिक चीन बहुत कम दाम में अगले 25 साल तक ईरान से तेल ख़रीदेगा. और चीन बैंकिंग, दूरसंचार, बंदरगाह, रेलवे, और ट्रांसपोर्ट जैसी क्षेत्रों में निवेश करेगा. चीन और ईरान के बीच हो रहे समझौते में सैन्य सहयोग भी शामिल है. जिसके तहत चीन ईरान के साथ मिलकर हथियारों का विकास करेगा.

सीमा विवाद पर बैठक के बाद चीन का बयान, कही ये बड़ी बात

इस डील के कारण भारत और ईरान के बीच दूरिया बढ़ सकती थी. ऐसे में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का दौरा भारत और ईरान के पुराने संबंधों को मज़बूत करने की दिशा में सार्थक प्रयास होगा. इससे अफग़ानिस्तान में भारतीय सहयोग से चल रही विकास योजनाओं पर भी सकारात्मक असर पड़ेगा. अमेरिका भले ही ईरान से नाराज़ हो लेकिन भारत के लिए ईरान की दोस्ती बेहद ज़रूरी है. रक्षा विशेषज्ञ मेजर जनरल एस पी सिन्हा कहते हैं कि ईरान असल में अफ़ग़ानिस्तान का गेट वे है. यदि अफगानिस्तान में आपको काम करना है तो उसमें ईरान का सहयोग लेना ही होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here