WHO ने दुनिया को चेताया, कहा कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए हो जाए तैयार

WHO ने दुनिया को खबरदार किया है कि अगर समय रहते नहीं चेते तो कोरोना की तीसरी लहर सब कुछ तबाह कर देगी इसलिए सावधानी बरतनी होगी।

0
330
Corona virus update
WHO ने दुनिया को चेताया, कहा कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए हो जाए तैयार

New Delhi: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दुनिया को खबरदार किया है कि अगर समय रहते नहीं चेते तो कोरोना की तीसरी लहर सब कुछ तबाह कर देगी इसलिए सावधानी बरतनी होगी। डब्ल्यूएचओ का कहना है कि कोरोना वायरस (Corona virus update) के प्रसार को रोकने के लिए यूरोपियन देशों में कोई भी प्रयास नहीं किए गए और ना ही कोई प्रसार किए गए। इसके चलते यूरोपियन देशों में कोविड-19 की दूसरी लहर आ गई है।

WHO के विशेष दूत डेविड नाबरो (David Nunes Nabarro) ने कहा कि अब भी वक्त है कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए कठोर उपाय किए जाएं नहीं तो 2021 की शुरुआत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर आ सकती है। आपको बता दें, डेविड ने स्विस अखबारों को दिए गए साक्षात्कार में कहा कि गर्मियों के महीने में यूरोपीय देशों में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए बुनियादी ढांचे का निर्माण नहीं हो सका, इसमें काफी चूक हुई है। इसलिए दुनिया को कोरोना वायरस (Corona virus update) की दूसरी लहर का प्रकोप सहना पड़ रहा है।

देश मे 90 लाख के पार पहुंचा कोरोना का आंकड़ा, एक्टिव मामलों में आई कमी

डेविड ने आगे कहा कि ‘कोरोना के संक्रमण की दर बढ़ रही है, इसने रफ्तार पकड़ ली है और जर्मनी और फ्रांस में शनिवार को संयुक्त रूप से 33,000 नए मामले सामने आए स्विट्जरलैंड और ऑस्ट्रेलिया में रोजाना हजारों मामले सामने आ रहे हैं। तुर्की में रिकॉर्ड 5,05,532 नए मामले दर्ज किए गए। ऐसे में अब हमें कोरोना से लड़ने के लिए सावधान हो जाना चाहिए।’

इसके सात ही डेविड ने दक्षिण कोरिया के जागरूकता की तारीफ भी की थी। उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि क्‍या रिसॉर्ट खोलने का वक्‍त आ गया है ? क्‍या शर्तों के साथ रिसॉर्ट खोले गए हैं? वहीं इस क्रम में उन्‍होंने एशियाई देशों की प्रशंसा की थी। उन्‍होंने कहा कि यूरोपीय देशों की तुलना में एशियाई मुल्‍कों में समय से पहले प्रतिबंधों में ढील नहीं दी गई। एशियाई मुल्‍कों ने इस तरह का प्रावधान किया है कि कोरोना वायरस का प्रसार कम हुआ है।

मॉडर्ना ने कोरोना वैक्सीन की कीमतों का किया ऐलान, जानें कीमत

डब्ल्यूएचओ (World Health Organisation) के विशेष दूत डेविड ने बताया कि एशियाई मुल्‍कों के लोग बीमार होने पर एक दूसरे से दूरी बना कर रखते हैं। मास्‍क पहना, हाथ को साफ करना इन सब चिझो का भी ध्यान रखते है। उनका कहना है स्विट्जरलैंड में कोरोना वायरस का प्रसार तेज हो रहा है। यहां कोरोना महामारी से मौत का ग्राफ बढ़ रहा है। और एक बार संक्रमण की दर बढ़ने के बाद उस पर काबू पाना काफी कठिन होता है।

डब्ल्यूएचओ ने इसके अलावा चेतावनी देते हुए कहा है कि कोरोना ट्रीटमेंट के लिए रेमेडिसविर (Remdesivir) का इस्तेमाल न किया जाए, चाहे मरीज कितना भी बीमार क्यों न हों, रेमेडिसविर मरीजों पर कारगर साबित नहीं हुआ है, और ना ही इसे लेकर कोई भी सबूत सामने आए है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि रेमेडिसविर का कोई भी लाभकारी प्रभाव हैं तो उसके बेहद कम होने की संभावना है और ऐसी दवाओं के इस्तेमाल से नुकसान की संभावना बनी रहती है।

दुनिया से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें World News In hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here