जल्द भारत में भी लॉन्च हो सकती है कोरोना वायरस की वैक्सीन

रुस में गामालेया और सिस्टेमा को इस वैक्सीन के प्रोडक्शन की जिम्मेदारी दी गई है, जो एक साल में वैक्सीन की लगभग 15 लाख खुराक बना सकती है।

0
205
Corona Vaccine Update
जल्द भारत में भी लॉन्च हो सकती है कोरोना वायरस की वैक्सीन

Delhi: रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine Update) स्पुतनिक V(Sputnik V) बनाने का दावा किया है। रूस की गामालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ने इस वैक्सीन को बनाया है। रूस के मंत्री ने कहा कि इस टीके की पहली खेप अगले दो हफ़्तों में आ जाएगी और पहले ये मुख्य तौर पर डॉक्टरों को दी जाएगी। इस खबर के साथ इस वैक्सीन को अन्य देशों को उपलब्ध कराने और उन देशों में इसके उत्पादन को लेकर चर्चा चल रही है। कई बड़े देश और संगठन कोरोना वैक्सीन को लेकर फिलहाल रूस के संपर्क में हैं।

Corona Breaking: रूस में कोरोना की पहली वैक्सीन बनकर तैयार, राष्ट्रपति पुतिन ने किया दावा

रुस में गामालेया और सिस्टेमा को इस वैक्सीन (Corona Vaccine Update) के प्रोडक्शन की जिम्मेदारी दी गई है, जो एक साल में वैक्सीन की लगभग 15 लाख खुराक बना सकती है। साथ ही रूस के प्रत्यक्ष निवेश निधि के प्रमुख किरिल दिमित्रीव ने कहा कि इस वैक्सीन की एक अरब खुराक के लिए 20 देशों से ऑर्डर मिल चुके हैं। चार देशों में अपने सहयोगियों के साथ रूस हर साल इसकी 50 करोड़ खुराक बनाएगा।

कौन है कमला हैरिस, जो बनीं अमेरिकी उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार

देश के प्रतिष्ठित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने रूस द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन पर कहा है कि पहले यह सुनिश्चित किए जाने की जरूरत है कि यह वैक्सीन कितनी सुरक्षित और असरदार है। बुजुर्गों या गंभीर बीमारियों से पीडि़त लोगों पर अगर इसका परीक्षण किया जा रहा है तो उनकी सुरक्षा सबसे अहम मुद्दा है। यह देखना पड़ेगा कि वैक्सीन कितनी सुरक्षित और असरदार रहती है।

इस कारण बिगड़े पाक और सऊदी के संबंध, लौटाना पड़ेगा कर्ज

भारत में इस समय तीन वैक्सीन का परीक्षण चल रहे हैं। जिसमें एक वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ मिलकर विकसित किया है। और बाकी दो को भारत बायोटेक और जाइडस कैडिला कंपनी ने तैयार किए हैं। आपको बता दें कि भारत में विश्व की 60 फीसद वैक्सीन बनती हैं। भारत के पास बड़ी संख्या में वैक्सीन बनाने की क्षमता है। वही सरकार और वैक्सीन निर्माताओं ने भरोसा भी दिया है कि इसे बनाने की क्षमता को और बढ़ाया जाएगा जिससे यह सिर्फ अपने देश ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को उपलब्ध कराई जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here