बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन बनाएगा चीन, इस दिन शुरु होगा ट्रायल

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन की फार्मा कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने यह योजना बनाई है, जिसका ट्रायल पहले से ही व्यस्कों पर चल रहा है और वह अंतिम चरण में है।

0
233
Corona Vaccine News
भारत को अगले साल मिल जाएगी कोरोना वैक्सीन, हेल्थ मिनिस्टर ने दी जानकारी

Delhi: दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमण (Corona Virus) की रफ्तार काफी तेज है। अब तक इससे तीन करोड़ पांच लाख के करीब लोग संक्रमित (Covid19) हो चुके हैं जबकि नौ लाख 52 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि इसके लिए वैक्सीन (Corona Vaccine) बनाने का काम काफी तेजी से चल रहा है। रूस और चीन समेत कई देशों के वैक्सीन अंतिम चरण के ट्रायल में हैं। इस बीच चीन ने अब बच्चों और किशोरों पर अपनी प्रायोगिक कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine For Kids) का क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने की योजना बनाई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन की फार्मा कंपनी सिनोवैक बायोटेक (Sinovac Biotech) ने यह योजना बनाई है, जिसका ट्रायल पहले से ही व्यस्कों पर चल रहा है और वह अंतिम चरण में है।

पिछले 24 घंटे में कोरोना के 93,337 नए मामले दर्ज, कुल आंकड़ा 53 लाख के पार

सिनोवैक बायोटेक के मुताबिक, कुल 552 स्वस्थ प्रतिभागियों, जिनकी उम्र  तीन से 17 साल होगी, उनको इस वैक्सीन (Corona Vaccine For Kids) की दो खुराक दी जाएगी, जिसमें कुछ दिनों का अंतर रखा जाएगा। माना जा रहा है कि यह ट्रायल उत्तरी चीनी प्रांत हेबै में 28 सितंबर से शुरू हो सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिनोवैक बायोटेक के प्रवक्ता ने बताया कि ट्रायल के लिए चीन की नियामक से पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। हालांकि चीन में कम से कम 10 हजार नागरिकों को प्रयोगात्मक तौर पर इस वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है। हाल ही में एक रिपोर्ट आई थी, जिसमें बताया गया था कि वैक्सीन निर्माता कंपनी लगभग 90 फीसदी कर्मचारियों और उनके परिवार के लोगों को पहले ही टीका दिया जा चुका है।

कोरोना के बाद चीन में फैला बैक्टीरियाई संक्रमण

एक रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चों और किशोरों पर कोरोना वायरस (Corona Vaccine For Kids) का असर सबसे कम देखने को मिला है। पूरी दुनिया में 20 साल से नीचे के 10 फीसदी से भी कम लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं जबकि 20 साल से कम उम्र के 0.2 फीसदी से भी कम लोगों की इस वायरस के कारण मौत हुई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के डायरेक्टर जनरल टेड्रस अधनोम का भी कहना है कि उनमें इसका गंभीर संक्रमण नहीं दिखता, लेकिन इसको लेकर अभी और शोध करने की जरूरत है।

अमेरिका-ताइवान दोस्ती से बौखलाया चीन, दी कब्जे की धमकी

बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड से लेकर जापान और जर्मनी से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक कई देशों में नौजवानों को कोरोना वायरस के नए मामलों में बढ़ोतरी के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। जापान में 20 और 29 साल के लोगों में सबसे ज्यादा संक्रमण पाया गया है। कुछ इसी तरह की स्थिति ऑस्ट्रेलिया में भी देखी गई है। कई अधिकारियों का कहना है कि नौजवान बिना किसी डर के और सामाजिक दूरी का पालन ना करते हुए बाहर घूम-फिर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here