UPTET Paper Leak: यूपीटीईटी पेपर लीक मामले में मुख्य आरोपी शिक्षक ने कोर्ट के सामने किया सरेंडर

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा के पेपर लीक मामले में आरोपी शिक्षक ने शामली की एक अदालत में सरेंडर कर दिया है।

0
105
UPTET Paper Leak
उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा के पेपर लीक मामले में आरोपी शिक्षक ने शामली की एक अदालत में सरेंडर कर दिया है।

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा  के पेपर लीक (UPTET Paper Leak) मामले में आरोपी शिक्षक ने शामली की एक अदालत में सरेंडर कर दिया है। निर्दोश चौधरी का नाम तब सामने आया था जब अलीगढ़ के एक आरोपी 28 साल के गौरव मलान को 30 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था। उसने खुलासा किया था कि कासगंज में रहने वाले प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक चौधरी ने अपने गिरोह को 5 लाख रुपये में पेपर बेचा था। लेकिन तब से आरोपी चौधरी फरार चल रहा था।

5 लाख रुपए में बेचा था पेपर

सीओ एसटीएफ बृजेश सिंह के मुताबिक निर्दोष चौधरी (Nirdosh Chaudhary) ने कांधला निवासी विकास को पांच लाख रुपए में पेपर बेचा था। मामले के खुलासे के बाद से ही एसटीएफ को निर्दोष चौधरी और विकास की तलाश थी, हालांकि अब मुख्य आरोपी ने खुद से सरेंडर कर दिया है। फिलहाल, पुलिस विकास की तलाश में लगी हुई है।

एसटीएफ के सीओ बृजेश सिंह ने क्या कहा

बता दें मामले की जांच का नेतृत्व कर रहे एसटीएफ के सीओ बृजेश सिंह ने कहा, “चौधरी घटनाओं की श्रृंखला की एक महत्वपूर्ण कड़ी है और शामली और बागपत में स्थित गिरोहों को कागजात से जुड़ा था।” इस बीच एसटीएफ की टीम को शामली के कांधला कस्बे का रहने वाला 50 साल के विकास कुमार के शामिल होने की जानकारी मिली है। वो एक धोखाधड़ी माफिया है और पिछले दो दशकों से इस धंधे में शामिल है।

प्राइमरी स्कूल में शिक्षक है मुख्य आरोपी

पेपर लीक मामले में अलीगढ़ का मुख्य आरोपी निर्दोष चौधरी प्राइमरी स्कूल में शिक्षक के पद पर है। टीईटी पेपर लीक मामले में मेरठ एसटीएफ अब तक पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। सीओ एसटीएफ से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्य आरोपी निर्दोष चौधरी का एक भाई यूपी पुलिस में सिपाही है और दूसरा भाई इनकम टैक्स में काम करता है।

कब होनी थी UPTET की परीक्षा 

UPTET एग्जाम 2021 की परीक्षा 28 नवंबर को होनी थी। लेकिन पेपर लीक की वह से रद्द कर दिया गया। हर साल होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 (UPTET Exam 2021) की तारीख का ऐलान हुआ था। पेपर लीक में सॉल्वर गैंग के कई मेंबर्स गिरफ्तार कर लिए गए हैं। फिलहाल, एसटीएफ मामले की जांच में जुटी है। 

Whatsapp Group पर वायरल हुआ था पेपर

बता दें की पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, मथुरा, गाजियाबाद, बुलंदशहर के व्हाट्सएप ग्रुप पर पेपर वायरल हुआ था। वहीं, बताया जा रहा है कि एक महीने बाद फिर से परीक्षा आयोजित की जाएगी। साथ ही, अभ्यर्थियों को कोई भी फीस नहीं देनी होगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here