‘धोखेबाज निकले मुलायम सिंह यादव’ बाहुबली नेता ने सुनाई कहानी

यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले बाहुबली नेता डीपी यादव ने सम्भल में बयान देते हुए कहा कि मुलायम सिंह यादव ने धोखाधड़ी की।

0
233

पूर्व सांसद और बाहुबली नेता डीपी यादव (DP Yadav) ने सम्भल में बयान देते हुए कहा कि उनकी पार्टी यूपी में चुनाव लड़ेगी। साथ ही मुलायम सिंह (Mulayam Singh Yadav) पर हमला करते हुए कहा कि महेंद्र सिंह भाटी हत्याकांड से बरी होने के मामले में किसने साजिश रची थी मुझे पता है। मुलायम सिंह यादव को लेकर कहा कि उनके साथ धोखाधड़ी की। 

यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले नेता डीपी यादव का बयान

आपको बता दें उत्तर प्रदेश में जल्द विधानसभा चुनाव (UP Election) होने वाले है। 2022 के चुनाव से पहले बाहुबली नेता डीपी यादव सर्तक हो गए है। डीपी यादव का कहना है कि पूरा यूपी हमारा है। चुनाव लड़न हमारा अधिकार है। मुलायम सिंह यादव के बारे में कहा कि उनका चलन अच्छा नहीं है मेरी सीट पर धोखाधड़ी की थी। प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने टिकिट दिया उन्होंने दर्द को समझा यूपी चुनाव में बीजेपी से उनकी पार्टी के समझौते के संबंध में कहा कि पार्टियों से बात हो रही है।

आने वाले समय में समझौते का खुलासा किया जाएगा, सरकार और किसानों के बीच हुए समझौते का डीपी यादव ने स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री और किसानों की पहल को सराहनीय बताया। विधायक महेंद्र सिंह भाटी हत्याकांड में सजा और फिर बरी होने समेत तमाम मुद्दों पर उन्होंने मीडिया से क्या बातचीत की देखें पूरी रिपोर्ट। 

अटल बिहारी वाजपेयी ने घर बुलाकर BJP ज्वाइन कराई- DP Yadav

प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी (Atal Bihari Vajpayee) ने मुझे पीएम हाउस बुलवाया। उस समय राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) पार्टी के अध्यक्ष थे और कल्याण सिंह (Kalyan Singh) मुख्यमंत्री थे। मुझसे अटल जी ने कहा कि आप मुलायम सिंह के खिलाफ हमारी पार्टी के उम्मीदवार होंगे। आप जाकर अपना फार्म भर दिजिए। मैं वहां गया और फिर मैंने नॉमिनेशन भरा। उसके बाद वहां मेरे साथ खेल हो गया।

जब बड़ी शक्तियां किसी को कुचलना चाहती हैं तो उसके चारों ओर घेरा बना लिया जाता है। वोटिंग के दो दिन पहले उत्तर प्रदेश की सरकार को गिरा दिया गया। ये सब मुझे हराने के लिए किया गया था। उसी दिन रात 1 बजे मेरे फार्म हाउस पर 2 आईपीएस ऑफिसर आए और मुझे मेरे फार्म में ही नजरबंद कर दिया गया। मेरे बंद होने के बाद भी संभल की जनता ने मुझे 2,90,000 वोट दिए, जबकि मैं फार्म हाउस से बाहर निकला भी नहीं था।

पिताजी ने 2 बातें जिंदगी में सिखाईं हैं

अपने पिता की बातें याद करते हुए कहा था कि मेरे पिता स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। उन्होंने मुझसे कहा था कि राजनीति में बहुत सारे अच्छे लोग नहीं हैं। इसे रहने दो। मैंने उनसे जिद की कि मैं राजनीति में जाकर अच्छा काम करूंगा। उस समय वे मेरी बात मान गए, पर उन्होंने दो बातें कहीं। पहली बात ये कि अगर कभी तेरी ऐसी हालत हो कि पैरों में जूते भी न हो तो बेईमानी मत करना। दूसरा बात बोलते हुए कहा कि तेरे कानों में कभी किसी गरीब की आवाज आ जाए, किसी के साथ अन्याय हो रहा हो, तो अपनी जान की बाजी लगा देना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here