माफिया मुख्तार अंसारी को मायावती ने दिखाया बाहर का रास्ता, पार्टी से किया बेदखल

Lucknow. विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Elections) से पहले हाल ही में चौका देने वाली खबर सामने आयी है।

0
349

Lucknow. विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Elections) से पहले हाल ही में चौका देने वाली खबर सामने आयी है। बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Chief Mayawati) ने अंसारी बंधुओं पर बड़ा फैसला लेते हुए बांदा की जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को पार्टी से हटाते हुए उनकी जगह आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से यूपी के बीएसपी स्टेट अध्यक्ष श्री भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है.

सुप्रीमो ने ट्वीट कर कही ये बातें

मायावती ने आगे कहा, जनता की कसौटी व उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने के प्रयासों के तहत ही लिए गए. इस निर्णय के फलस्वरूप पार्टी प्रभारियों से अपील है कि वे पार्टी उम्मीदवारों का चयन करते समय इस बात का खास ध्यान रखें ताकि सरकार बनने पर ऐसे तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने में कोई भी दिक्कत न हो.

मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प ’कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है ताकि प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की. ’सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय’ जैसी तथा बीएसपी जो कहती है वह करके भी दिखाती है यही पार्टी की सही पहचान भी है.

सपा का दामन थाम सकता है मुख्तार अंसारी का परिवार

1996 में वह हाथी की सवारी कर वह पहली बार विधानसभा पहुंचा था. चुनावों से पहले मुख्तार अंसारी और उनका परिवार भी समाजवादी पार्टी का दामन थाम सकता है. इसके साथ ही साथ मुख्तार अंसारी के तीसरे भाई अफजाल अंसारी समाजवादी पार्टी के टिकट पर ही इस बार का चुनाव लड़ सकते हैं. हालांकि अफजाल अंसारी अभी बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर पूर्वांचल की गाज़ीपुर सीट से सांसद है.

Also Read: मायावती ने प्रबुद्ध सम्मलेन के दौरान चुनावी पार्टियों पर किये तीखे वार, कही ये 10 बड़ी बातें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here