इस्तीफे के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए उद्धव ठाकरे, शिंदे पर बधाई के साथ हमला, शिवसेना का मानने से इंकार भी किया

0
87
Uddhav Thackeray Press Conference
Uddhav Thackeray Press Conference

Uddhav Thackeray Press Conference: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद और महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन के अलगे दिन उद्धव ठाकरे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी प्रतिक्रिय़ा दी। उन्होंने नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे औऱ उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बधाई दी, लेकिन उन्होंने इस बात से साफ तौर पर इंकार किया कि नया मुख्यमंत्री शिवसेना के हैं।

इस्तीफा देने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने आज स्पष्ट रूप से महाराष्ट्र की नई सरकार को लेकर अपने भाव व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि जो ये कहा जा रहा है कि सीएम शिवेसना का है, वो गलत है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता के लिए रातोंरात खेल किया गया।

मेरे दिल से महाराष्ट्र को अलग नहीं कर सकते- उद्धव

अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray Press Conference) ने कहा कि मेरे दिल से महाराष्ट्र को निकल पाना मुश्किल है। मुझसे महाराष्ट्र को कोई अलग नहीं कर सकता। लोकतंत्र के चार स्तंभ हैं, पर अगर इन लोगों पर भरोसा नहीं रहा तो क्या होगा।

नई सरकार को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को बर्बाद ना करें। महाराष्ट्र के लोगों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा कोई भी काम नहीं करें जो पर्यावरण को खराब करता हो।

सब पहले से तय था- उद्धव

प्रेस कॉन्फ्रेंस में ठाकरे ने कहा कि सब लोगों ने देखा कि मेरी पीठ पर किस तरह से खंजर घोंपा गया। बीजेपी पर अपना वचन पूरा नहीं करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि “अगर भाजपा ने मुझे दिया हुआ वचन पूरा किया होता तो कम से कम ढाई साल तक उनका अपना मुख्यमंत्री रहता। महाराष्ट्र में सबकुछ पहले से ही तय था। लेकिन मैं महाराष्ट्र की जनता का आभारी हूं। मैं वचन देना चाहता हूं कि मैं कभी भी सत्ता के लिए गद्दारी नहीं करूंगा।”

BJP बात मानती तो MVA पैदा नहीं होती

उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कहा कि मेरा गुस्सा महाराष्ट्र के लोगों पर मत निकालो। मेट्रो शेड के प्रस्ताव में बदलाव मत करो। मुंबई के पर्यावरण के साथ खिलवाड़ मत करो। BJP के साथ 2019 का वक्त याद करते हुए ठाकरे ने कहा कि मैंने पहले ही Amit Shah से ये बात कही थी कि 2.5 साल शिवसेना का मुख्यमंत्री हो और वही हुआ। बीजेपी पहले ही ऐसा कर लेती तो महा विकास अघाडी का जन्म ही नहीं होता।

जिस प्रकार से इस वक्त सरकार बनी है और एक तथाकथित शिवसेना कार्यकर्ता को मुख्यमंत्री बनाया गया है, ये सम्मान से भी हो सकता था। मैंने अमित शाह से यही कहा था। शिवसेना आधिकारिक तौर पर उस समय आपके साथ था, लेकिन एकनाथ शिंदे शिवसेना के नहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here