10 साल में 7 बार पलटे नीतीश, राजनीति में सफलता से पलटी मारने के माहिर

0
57
Nitish Kumar Political History
Nitish Kumar Political History

Nitish Kumar Political History: राजनीति में दल-बदल का खेल कई सालों से चलता आ रहा है और अगर इसके माहिर खिलाड़ी नीतीश कुमार को कहें तो कुछ गलत नहीं होगा। बिहार में सियासी गहमागहमी के बीच नीतीश कुमार ने राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे दिया।

नीतीश कुमार ने बीजेपी से गठबंधन तोड़ने के फैसला अचानक लेकर सबको चौंका दिया। लेकिन ये कोई पहला वाक्या नहीं है  जब नीतीश कुमार ने इस तरह से अपना रुख बदला है। साल 2013 में भी उन्होंने NDA को बीच मजधार में छोड़कर RJD और कांग्रेस का हाथ थाम लिया था। हालांकि फिर 2017 में वो दोबारा बीजेपी के साथ चले आए थे। इस तरह से नीतीश कुमार राजनीतिक गलियारे में कई बार अपना पाला बदल चुके हैं।

NDA के साथ 17 साल पुराना गठबंधन तोड़ा

नीतीश कुमार ने कई बार अपने पैंतरों के कारण राजनीतिक पंडितों को चौंकाया है। पहली बार साल 2005 में बीजेपी और नीतीश कुमार ने मिलकर सरकार बनाई थी। दलबदल की पहली घटना साल 2012 में हुई थी जब NDA का हिस्सा रहते हुए नीतीश कुमार ने राष्ट्रपति चुनाव के दौरान प्रणब मुखर्जी को अपना मत दिया था। साल 2013 में बीजेपी ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के कैंडिडेट के तौर पर खड़ा किया तो नीतीश कुमार ने 17 साल पुराना गठबंधन तोड़ दिया।

मांझी को सीएम बनाया, फिर छोड़ा महागठबंधन

2014 के आम चुनाव में RJD और JDU साथ में मैदान में उतरे थे, लेकिन बीजेपी ने बाज़ी (Nitish Kumar Political History) मार ली थी। इस दौरान नीतीश कुमार ने सबको चौंकाते हुए सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था जिसके बाद जीतन राम मांझी को बिहार का सीएम बनाया गया था।

साल 2015 में नीतीश कुमार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन के साथ उतरे थे और जीत भी हासिल की थी। जून 2017 में महागठबंधन के साथ उन्होंने राष्ट्रपति चुनाव में UPA की मीरा कुमार की बजाय NDA के रामनाथ कोविंद को वोट दिया था।

राबड़ी के घर इफ्तार पार्टी में हुए थे शामिल

इसके एक महीने बाद ही जुलाई में उन्होंने महागठबंधन छोड़ दिया था और एक बार फिर से भाजपा के साथ ही सरकार बना ली। बीते 5 सालों से भाजपा और जेडीयू साथ चल रहे थे, लेकिन इसी साल अप्रैल में एक बार फिर से उन्होंने चौंका दिया था। नीतीश कुमार ने राबड़ी के घर आयोजित इफ्तार पार्टी में हिस्सा लिया था। 5 साल बाद हुई इस मुलाकात के बाद से ही कयास तेज हो गए थे, जिनका अंत अब होने वाला है। अब नीतीश कुमार ने एक बार फिर से चौंकाया है और वह एनडीए को छोड़कर कांग्रेस और आरजेडी संग सरकार बनाने जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here