ED के दबाव में पार्टी छोड़ने वाले बाला साहेब के भक्त नहीं हो सकते- संजय राउत

0
37
Maharashtra Politics

महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान (Maharashtra Politics) के बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने दावा किया है कि उनकी पार्टी अभी भी पूरी तरह मज़बूत है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए दावा किया, “आज भी हमारी पार्टी मज़बूत है। किस हालात और किस दबाव में उन लोगों ने हमारा साथ छोड़ा उसका खुलासा जल्द होगा।”

बागी माने जाने वाले 20 विधायक संपर्क में

इसके साथ ही संजय राउत ने दावा किया कि पार्टी के क़रीब 20 विधायक उनके संपर्क में हैं और जब वे मुंबई आएँगे तब इसकी जानकारी सब के सामने आएगी।

ईडी के दबाव में छोड़ रहे हैं पार्टी- राउत

उन्होंने तंज़ किया कि जो लोग प्रवर्तन निदेशालय के दबाव में पार्टी छोड़ते हैं, वह बाला साहेब को मानने वाले नहीं हो सकते। संजय राउत ने कहा, “ईडी की जाँच के दबाव में पार्टी छोड़ने वाले बाला साहेब के भक्त नहीं हो सकते।”

उन्होंने कहा, “हम असल में बाला साहेब के भक्त हैं। हमारे ऊपर भी प्रवर्तन निदेशालय का दबाव है लेकिन हम उद्धव ठाकरे के साथ खड़े रहेंगे।”
फ्लोट टेस्ट में होगा बहुमत साबित- राउत

संजय राउत ने एकबार फिर फ़्लोर टेस्ट में बहुमत साबित करने का दावा किया है।

हम लड़ने वाले लोग, जीत हमारी होगी

उन्होंने कहा कि हम लड़ने वाले लोग हैं और अंत में सत्य की जीत होगी।

साथ ही उन्होंने कहा कि अगर विश्वास प्रस्ताव पेश किया जाता है तो हम बहुमत साबित करेंगे।

एकनाथ को मिला चार और का साथ

(Maharashtra Politics) शिवसेना नेता एकनाथ शिंदें के नेतृत्व में क़रीब 30-35 विधायक गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में ठहरे हुए हैं। इस बीच ख़बरे हैं कि चार और विधायक बुधवार देर रात होटल पहुँच गए।

दूसरी तरफ उद्धव ठाकरे  देर रात अपने परिवार के साथ सरकारी आवास ‘वर्षा’ छोड़कर मातोश्री चले गए हैं।

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद पहली बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बुधवार को फेसबुक लाइव के जरिए बात की।
शिवसेना हिंदुत्व एक दूसरे से हैं जुड़े

उद्धव ठाकरे ने कहा, “लोग कह रहे थे कि मुख्यमंत्री मिलते नहीं हैं। शिवसेना कौन चला रहा है। मेरा ऑपरेशन हुआ था, मेरी तबयीत ठीक नहीं थी, इस वजह से मैं लोगों से मिल नहीं पाया। वो समय काफ़ी मुश्किल था। मैं हॉस्पिटल से ऑनलाइन काम कर रहा था। शिवसेना और हिंदुत्व एक दूसरे से जुड़े हुए शब्द हैं। शिवसेना हिंदुत्व से कभी भी दूर नहीं हो सकती, क्योंकि शिवसेना प्रमुख ने मंत्र दिया है कि हिंदुत्व हमारी सांस है।”

अगर शिवसैनिक चाहते हैं तो छोड़ दूंगा मुख्यमंत्री पद- उद्धव

उन्होंने कहा, “एकनाथ शिंदे को सूरत जाकर बात करने की क्या ज़रूरत थी। कुछ विधायक यहाँ नहीं हैं। कुछ लोग फ़ोन कर रहे हैं कि वे लौटना चाहते हैं। मैंने हमेशा अपनी ज़िम्मेदारियों को निभाया है। मैं सीएम पद छोड़ने के लिए तैयार हूँ, लेकिन मेरे बाद कोई शिवसैनिक मुख्यमंत्री बने तो मुझे ख़ुशी होगी। लापता विधायक यहाँ आएँ और मेरे त्यागपत्र के साथ राजभवन जाएँ।”

ये भी पढ़ें: सूरत में शतरंज की बिसात पर ऊंट की चाल चल रहे थे शिंदे..’महा’ बिसात पर भी ‘वजीर’ की होगी बाजी ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here