उद्धव ठाकरे ने कहा- सरकारी आवास छोड़ा है, अपना इरादा नहीं

0
140
Udhav Thackeray
Udhav Thackeray

महाराष्ट्र में शिवसैनिकों की बगावत झेल रहे मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Udhav Thackeray) ने कहा है कि उन्होंने सीएम का बंगला छोड़ा है, लेकिन अपना इरादा नहीं। शिवसेना प्रमुख पिछले कुछ वक्त से अपनी ही पार्टी के अंदर से बग़ावत का सामना कर रहे हैं। उन्हें महाविकास अघाड़ी की सहयोगी पार्टियां कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) का पूरा समर्थन मिल रहा है, लेकिन उनके अपने कई विधायक उनसे नाराज़ हैं।

पार्टी के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के बाग़ी विधायक गुवाहाटी में बैठे हैं। एकनाथ शिंदे का दावा है कि उनके साथ 46 से अधिक विधायकों का समर्थन हैं, जिनमें से अधिकतर शिवसेना के ही हैं।

वर्षा’ (सरकारी आवास) छोड़कर आया हूँ, अपना इरादा नहीं

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ पार्टी के ज़िला अध्यक्षों को संबोधित करते हुए उद्धव (Udhav Thackeray) ने कहा- पार्टी ने पहले भी बग़ावत का सामना किया है, उसके बाद भी पार्टी दो बार सत्ता में आई। मैं ‘वर्षा’ (सरकारी आवास) छोड़कर आया हूँ, अपना इरादा नहीं।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पिछले ढाई सालों में उन्हें स्वास्थ्य के मोर्चे पर कई बार समस्याओं का सामना करना पड़ा। उन्होंने कोरोना से भी लड़ाई लड़ी और फिर अपनी बीमारी से भी। उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष ने इस स्थिति का फ़ायदा उठाया।

शिवसेना के बाग़ी विधायकों ने आरोप लगाया है कि पार्टी प्रमुख के पास उनसे मिलने का समय नहीं होता था और कई मौको पर उनसे मिलने भी नहीं दिया जाता था। साथ ही विधायकों की ये भी मांग थी कि शिवसेना को महाविकास अघाड़ी से निकल जाना चाहिए क्योंकि वे हिंदुत्व की राह पर अब नहीं चल रहे हैं।

इस बैठक के बाद शिवसेना नेता सचिन अहीर ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के भाषण के बाद पार्टी नेताओं में काफी उत्साह है। उन्होंने कहा कि भले ही विधायक यहाँ न हों, लेकिन पार्टी बरकरार है।

उन्होंने कहा कि पार्टी का पूरा आधार है और इसी भावना के साथ वे लड़ते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here