सरकार बचाने के लिए लगाई थी एकनाथ से ये गुहार, शिंदे ने ठुकराया उद्धव का प्रस्ताव

0
35

Maharashtra: एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के बागबती तेवर देखने के बाद उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने अपने हथियार दाल दिए ऐसा मान भी लिया जाए। ऐसा इसलिए कि संजय राउत (Sanjay Raut) के मिडिया से मुखातिब होने के बाद ऐसा बयान देना कि ‘क्या हो जाएगा। ज्यादा से ज्यादा सरकार चली जाएगी, तो सरकार फिर बन जाएगी’। इस बयान एक बाद उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने फेसबुक पर लाइव आकर शिवसैनिकों के जेहन में व्याप्त आशंकाओं को दूर करने का काम तो कर दिया। उन्होंने तो यहां तक कहने से ज़रा भी गुरेज नहीं किया कि, ‘अगर किसी को मेरे मुख्यमंत्री बने रहने से कोई समस्या है, तो मैं इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं।

उन्होंने कहा कि अगर आप चाहते हैं, तो मैं शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख के पद से भी इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं। लेकिन जिस तरह से कहीं गुजरात तो कहीं गुवाहाटी से जिस तरह मुझे शिकवे शिकायते मिल रही है वो ठीक नहीं है। उन्होंने हिंदुत्व की विचारधारा को लेकर भी कहा कि पार्टी ने कभी हमारी विचारधारा से कभी-भी कोई समझौता नहीं किया है।

जानें क्या है पूरा मामला ?

दूसरी तरफ एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के बगावती तेवर को लेकर एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र (Maharashtra) का मुख्यमंत्री बनाने की पेशकेश कर दी। एकनाथ शिंदे अपने 47 विधायकों के साथ होने का दावा भी कर रहे हैं। उनका कहना है कि उनके साथ 47 विधायक हैं, जिसमें से 34 विधायक बीजेपी के शामिल हैं, जिसमें कई निर्दलीय विधायक भी शामिल हैं। उधर, शिंदे ट्वीट कर साफ कर चुके हैं कि वो जो भी कर रहे हैं, गलत नहीं कर रहे हैं, वे बाला साहब ठाकरे के विचारधाराओं का पालन कर रहे हैं और हिंदुत्व की विचारधारा का पालन कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here