Maharashtra: क्या है जादुई Rice Puller? जिसके जाल में फंसा पूरा परिवार और दे दी जान !

0
162
घटनास्थल पर मौजूद पुलिस.

 Maharashtra: महारष्ट्र के सांगली जिले में सोमवार को एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया हैं, जिसे जानकर आपकी भी रुह कांप उठेगी । जिले के म्हैसल में एक ही परिवार के नौ सदस्य मृत अवस्था में अपने ही घर में मिले हैं। पुलिस ने कहा है कि यह खुदकुशी का मामला लग रहा है. शुरुआती जांच से पता चला है कि मृत परिवार के दोनों मुखिया कर्ज में डूबे हुए थे. इस मामले में 25 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया हैं। वहीं, 13 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. सांगली जिले के म्हैसाल गांव का यह पूरा मामला है.

एक ही परिवार के 9 लोगों की मौत से सकते में आए म्हैसाल गांव के निवासियों ने बताया कि वनमोरे बंधु किसी चावल खींचने वाली धातु (राइस पुलर) के सौदे की बात करते रहते थे. ऐसा सुनने में आया कि दोनों भाइयों को किसी विदेशी कंपनी से 3000 करोड़ रुपये मिलने वाले थे.

मृतकों के घर के बाहर जुटी भीड़.

 

वहीं, गांव में चल रही इस खुसरपुसर को लेकर सांगली के एसपी ने कहा कि ये सभी लोगों के बीच चल रही महज एक चर्चा है, उनके पास फिलहाल इसकी पुष्टि करने के लिए कुछ भी नहीं है.

म्हैसल गांव में चर्चा है कि दोनों भाई चावल खींचने वाले राइस पुलर यानी चावल खींचने वाली जादुई धातु के सौदे में शामिल थे. एक गिरोह ने वनमोरे बंधुओं सेवादा किया था कि अगर उन्हें ‘चावल खींचने वाली’ धातु मिलती है तो उन्हें भारी मुनाफा होगा. कथित तौर पर दोनों भाई गिरोह के चंगुल में फंसकर इस तरह के सौदे के लिए उधार पैसे लेते जा रहे थे.

आखिर क्या है  ‘राइस पुलर’?

ठग दावा करते हैं कि राइस पुलर (जो कि लोटे, कटोरे, गिलास या मूर्ति के आकार का हो सकता है) चुंबकीय शक्ति के चलते अत्यधिक मूल्यवान है, और जिसे नासा (NASA) जैसी वैज्ञानिक संस्था उपग्रहों और स्पेस में ऊर्जा पैदा करने के लिए करोड़ों की कीमत में खरीदती है. इसी लालच में आकर लोग लाखों-करोड़ों की कीमत में ‘राइस पुलर’ को खरीद लेते हैं, जबकि कोई भी संस्था उनसे ‘राइस पुलर’ को खरीदने नहीं आती.

यही नहीं, शातिर ठग यह भी बताते हैं कि जो लोग इस खास धातु का बर्तन खरीदते हैं, तो उनके व्यापार और धन में दिन दूनी और रात चौगुनी वृद्धि होती है.’राइस पुलर’ को चमत्कारी बताने वाले एक खास टेस्ट भी कराते हैं, जो इसके असली या नकली होने की पहचान बताया जाता है.

एक ही परिवार के सभी मृतक.

सुसाइड नोट में उधार लेने की बात

सुसाइड नोट्स से पता चलता है कि उन्होंने बहुत अधिक उधार लिया था. मृतकों में से एक पोपट वनमोर को कुछ क्रेडिट संस्थानो से से वसूली के नोटिस भी मिले थे. हालांकि, हम सभी एंगल से मामले की जांच कर रहे हैं.

सांगली के एसपी दीक्षित गेदाम ने भी बताया कि सुसाइड नोट में यह उल्लेख किया गया था कि दोनों भाइयों ने किसी बिजनेस के लिए पैसे लिए थे. हालांकि, आखिर उनका क्या क्या व्यापार था? इसकी जांच बाद में की जाएगी. लेकिन विस्तृत जांच और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ही मौत की सही वजह खुलेगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here