Maharashtra Political Crisis: असम पहुंचे बागी 40 MLAs, शिंदे बोले-हम बालासाहेब के हिंदुत्व को आगे ले जाएंगे

0
87
एकनाथ शिंदे

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में मंगलवार से शुरू हुआ सियासी कोहराम आज बुधवार को भी जारी है. बता दें की रात करीब 2 बजे शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के साथ पार्टी के 34 विधायक और 7 निर्दलीय विधायक गुवाहाटी जाने के लिए सूरत एयरपोर्ट पहुंचे. सूरत हवाई अड्डे पर शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे मीडिया के सामने आए तो उन पर सवालों की बौछार शुरू हो गई. इन सवालों का जवाब देते हुए शिंदे ने कहा कि हमने बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना को नहीं छोड़ा है और नहीं छोड़ेंगे. हम बालासाहेब के हिंदुत्व का अनुसरण कर रहे हैं और इसे आगे भी ले जाएंगे. सूरत से रवाना हुए सभी विधायक करीब पौने सात बजे गुवाहाटी पहुंचे. जहां उन्हें बसों के माध्यम से रेडिसन होटल ले जाया गया.

क्या बोले एकनाथ शिंदे

फिलहाल सूरत एयरपोर्ट पर गुवाहाटी के लिए रवाना होने से पहले शिवसेना से की गई बगावत को लेकर एकनाथ शिंदे ने साफतौर पर कह दिया है कि उन्होंने बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना को नहीं छोड़ा और आगे भी नहीं छोड़ेंगे. उन्होंने कहा है कि ‘हम बालासाहेब के हिंदुत्व का अनुसरण कर रहे हैं और इसे आगे भी ले जाएंगे.’

बता दें कि महाराष्ट्र में हुए विधान परिषद चुनाव में क्रॉस वोटिंग करके बीजेपी को 5 सीटें जितवाने वाले सभी विधायक मंगलवार सुबह गुजरात के सूरत पहुंच गए थे. जिसके बाद शिंदे ने यह दावा किया कि उन्हें 35 विधायकों का समर्थन प्राप्त है और उन्होंने शिवसेना प्रमुख महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से बीजेपी संग सरकार बनाए जाने की मांग रखी थी. फिलहाल महाराष्ट्र में चार बार के विधायक रहे एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार में शहरी विकास और पीडब्ल्यूडी मंत्री हैं.

किसके पास कितने विधायक

बता दें कि शिवसेना विधायक रमेश लटके के निधन के बाद महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा में एक सीट खाली है. ऐसे में किसी भी पार्टी या गठबंधन को बहुमत के साथ सत्ता में रहने के लिए फलहाल 144 विधायकों की जरूरत है. वहीं साल 2019 में हुए चुनाव में बीजेपी ने 105 सीट जीती थी. जो कि पंढरपुर विधानसभा उपचुनाव जीतने के बाद अब 106 हो गई है.

शिवसेना के फिलहाल 55 विधायक हैं, एनसीपी के 53 विधायक हैं और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं. सदन में 13 निर्दलीय हैं. तेरह निर्दलीय उम्मीदवारों में से छह बीजेपी के समर्थक हैं, पांच ने शिवसेना को समर्थन किया है, जबकि कांग्रेस और NCP को एक-एक निर्दलीय का समर्थन प्राप्त है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here