हर घर तिरंगे अभियान का दिखा रहा असर, आतंकियों के घर भी लहराया तिरंगा

0
336
सांकेतिक तस्वीर

हर घर तिरंगा अभियान ने आज देश के कोने-कोने में उत्साह भर दिया है। यहां तक कि आतंकवादियों के घर भी तिरंगा लहराता नज़र आ रहा है। यह अभियान कट्टरपंथियों और आतंकवादियों के मुंह पर तमाचा साबित होता नज़र आ रहा है। कभी कश्मीर को पाकिस्तान (Pakistan) के साथ जोड़ने का सपना देखने वाले आतंकवादियों के परिजन आज अपने अपने घरों में तिरंगा को लहरा रहे हैं। इस बात की मिसाल है आतंकी खुबैब (Khubaib) का घर जो जिला डोडा के कठावा में स्थित है। उसके घर आज तिरंगा लहरा रहा है।

मोहम्मद अमीन उर्फ खुबैब उर्फ पिन्ना उर्फ हारून लश्कर ए तैयबा के उन खूंखार आतंकियों मेें से एक हैं जो पाकिस्तान में बैठकर जम्मू कश्मीर में खूनी खेल खेलते थे। स्थानीय युवाओं को बहकाकर मौत के रास्ते पर चलना सिखाता था।

पिछले तीन वर्षों के दौरान खुबैब के नेटवर्क से जुड़े डोडा, जम्मू और रामबन में सक्रिय लश्कर के लगभग एक दर्जन आतंकी व ओवरग्राउंड वर्कर पकड़े जा चुके हैं। पिछले दिनों ऊधमपुर में हुए बम धमाकों की साजिश भी उसी की करतूत थी।

15 वर्ष से पाकिस्तान में है मोहम्मद अमीन उर्फ खुबैब

15 वर्ष से पाकिस्तान में बैठे मोहम्मद अमीन उर्फ खुबैब (Khubaib) का खौफ आज भी डोडा के ऊपरी इलाकों में देखा जा सकता है। उस इलाके के लोगों के चेहरे बताते हैं कि उसका कितना खौफ था। उसके गांव और आस पास के लोग उससे बेइंतेहा डरते थे। जो आज उसके डर के बिना खुलेआम भारत माता की जयकारे के नारे लगा रहे हैं। उसके खुद के घर में तिरंगा लहरा रहा है।

कठावा स्थित आतंकी खुबैब (Khubaib) के घर में राष्ट्रघ्वज को लहराता देख उसके पिता ने दाऊद बट ने कहा कि यह हमारा झंडा है, हम नहीं तो फिर कौन इसे उठाएगा। हम हिंदुस्तानी हैं और यह हमारे मुल्क का झंडा है। अपने आतंकी बेटे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि खुबैब को चाहिए था कि वह हिंदुस्तान की बंदूक और झंडा उठाता। उसे भी यही तिंरगा उठाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि वह फ़ौज को जहां भी मिले उसे वहीं मार दें।

खुबैब (Khubaib) के भाई ने भी कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने यह अभियान चलाकर बहुत अच्छा काम किया है। सभी को यह झंडा अपने घर लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं अपने भाई को ये पैगाम देना चाहता हूँ कि वह वापस आए और अपने मुल्क का झंडा उठाए। यही उसके लिए बेहतर है। उन्होंने कहा कि खुबैब (Khubaib) के कारण कई नौजवान बर्बाद हुए हैं और कई घर भी उजड़े हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here