कोरोना की दूसरी लहर में भी महिलाओं के लिए योगी सरकार की योजनाएं बनी ढाल

आर्थिक तौर पर कमजोर महिलाओं-बेटियों के लिए मसीहा बने सीएम योगी, 12.76 लाख नए लाभार्थियों को स्वर्णिम योजनाओं से जोड़ा गया।

0
228
Yogi Government

Uttar Pradesh: योगी सरकार ने जब से उत्तर प्रदेश में सत्ता संभाली हैं (Yogi Government) तब से ही महिलाओं और बेटियों के उत्थान के लिए काम कर रही है। सीएम योगी प्रदेश की महिलाओं और बेटियों की सुरक्षा, सेहत, शिक्षा और उनको आत्मनिर्भर यूपी की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों की जरूरतमंद महिलाओं और बेटियों के लिए कई स्वर्णिम योजनाओं को लागू किया जिसके कारण आज कोरोना की दूसरी लहर के बावजूद भी यह योजनाएं महिलाओं और बेटियों के लिए ढाल बनी हैं।

Also Read: योगी सरकार ने बच्चों के लिए शुरू की नई पहल, बाल सेवा योजना का मिलेगा लाभ…

सीएम योगी ने प्रदेश की महिलाओं के हित में ठोस कदम उठाए हैं। उसका ही परिणाम है कि मिशन शक्ति जैसे अभियान से महिलाओं और बेटियों का मनोबल बढ़ा है। वहीं योगी सरकार की स्‍वर्णिम योजनाओं से विकास के पथ पर महिलाओं के कदम तेजी से बढ़ रहें हैं। कोरोना काल में योगी सरकार (Yogi Government) ने एक ओर जहां जान भी जहान भी के संकल्प को पूरा करते हुए प्रदेशवासियों को जानलेवा वायरस से प्रकोप से सुरक्षित रखा वहीं कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रदेश की महिलाओं और बेटियों तक पहुंचाया।

कोरोना काल के बावजूद भी कन्या सुमंगला योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, पति की मृत्यु उपरान्त निराश्रित महिला पेंशन योजना,181 महिला हेल्प डेस्क, वन स्टॉप सेंटर,महिला शक्ति केंद्र और रानी लक्ष्मी बाई महिला सम्मान कोष जैसी सीएम की लाभकारी योजनाओं से कई नए लाभार्थी जुड़े हैं।

निराश्रित महिला पेंशन योजना से जुड़े 1.85 लाख नए लाभार्थी

महिलाओं के चौमुखी विकास के लिए उनकी सुरक्षा, शिक्षा, स्‍वावलंबन, सम्‍मान, सेहत को केन्द्रित करते हुए योगी सरकार की योजनाओं से प्रदेश की आधी आबादी को प्रोत्‍साहन मिल रहा है। कोरोना काल में ‘पति की मृत्यु उपरान्त निराश्रित महिला पेंशन योजना’ के तहत 1.85 लाख नए लाभार्थी जुड़े हैं। मुख्‍यमंत्री ने प्रदेश की महिलाओं को सम्‍मान और सुरक्षा देने के उद्देश्‍य से शुरू की गई पति की मृत्‍योपरांत निराश्रित महिला पेंशन योजना ने महिलाओं को कवच प्रदान किया है। इस योजना के तहत 27.95 लाख लाभार्थियों को इसका लाभ प्राप्त किया जा चुका है।

Also Read: चेन स्नैचिंग पर हो सकती है 14 साल तक जेल, जानिए सिफारिश की ये धाराएं

कन्या सुमंगला योजना से जुड़े 44 हजार नए लाभार्थी

प्रदेश में कन्या सुमंगला योजना 1 अप्रैल 2019 से लागू हुई। तब से आज तक इस योजना का लाभ 7.58 लाख लाभार्थी ले चुके हैं। बता दें कि मार्च 2021 तक यह आंकड़ा 7.14 लाख था पर महज तीन महीनों में इस योजना का लगभग 44 हजार नए लाभार्थियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है।

12.76 लाख महिलाओं और बेटियों को योजनाओं से जोड़ा गया

प्रदेश के 64 जनपदों में महिला शक्ति केंद्रों का संचालन किया जा रहा है। साल 2020-2021 में कुल 37,406 गतिविधियों के जरिए 18.46 लाख महिलाओं और बेटियों को जागरूक किया गया। इसके साथ ही कोरोना काल के बावजूद महिला शक्ति केंद्रों के जरिए प्रदेश की 12.76 लाख महिलाओं और बेटियों को सीएम की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ा गया है।

Read More Articles on UP News in Hindi


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. YouTube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here