वाराणसी की शिवांगी सिंह बनीं राफेल जेट उड़ाने वाली पहली महिला

उत्तर प्रदेश के वाराणासी की रहने वाली शिवांगी सिंह दुनिया की पहली राफेल महिला पायलट बनने जा रही हैं।

0
242
First Rafale Women Fighter Pilot
वाराणसी की शिवांगी सिंह बनीं राफेल जेट उड़ाने वाली पहली महिला

Uttar Pradesh: दुनिया के हर क्षेत्र में महिलाएं अपना नाम रोशन कर रही हैं। साथ ही लंबी उड़ाने भरती हुई नजर आ रही हैं। ऐसे में भारतीय सेना की नारी ने सशक्त होकर देश और परिवार वालों का नाम रोशन कर दिया है। आपको बता दें शिवांगी सिंह दुनिया की पहली राफेल जेट उड़ाने वाली महिला पायलट बनने (First Rafale Women Fighter Pilot)  जा रही हैं। शिवांगी सिंह उत्तर प्रदेश के वाराणासी की रहने वाली है।

मिंग-21 एस की भरी है उड़ान

वाराणासी की रहने वाली शिवांगी सिंह (First Rafale Women Fighter Pilot) अब अंबाला बेस पर मिंग-21 एस पर अपनी जगह बना चुकी हैं, साथ ही (Goulden arrows squadron) में शानदार एंट्री करने जा रही हैं। मिंग-21 एस उड़ाना इतना मुश्किल नहीं था, क्योंकि पहले से ही शिवांगी सिंह ने 340 प्रति किमी की स्पीड के साथ विमान उड़ाया हैं।

राज्यसभा का मानसून सत्र अनिश्चितकाल के लिए किया गया स्थगित

शिवांगी सिंह 7वीं यूपी एयर स्क्वाड्रन का हिस्सा थीं। 2016 में उन्होंने वायुसेना अकादमी में ट्रेनिंग शुरू की। वायुसेना के अधिकारी ने कहा, यह सुखद है कि फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी वायुसेना के सबसे पुराने लड़ाकू विमान मिग-21 के बाद सबसे उन्नत राफेल लड़ाकू विमान उड़ा रही हैं।

कहां-कहां लहराया परचम

महिला लड़ाकू पायलटों के दूसरे बैच (First Rafale Women Fighter Pilot) 2017 में भारतीय वायु सेना में कमिश्नर के तौर पर काम किया है। उसके बाद वाराणासी में ही फ्लाइट लेफ्टिनेंट की ट्रेनिंग ली, जिसके बाद शिवांगी अंबाला में (17 Squadron Golden Arrow) में शामिल होंगी। शिवांगी अंबाला में सर्वश्रेष्ठ फाइटर में से एक विंग कमांडर के तौर पर कार्य कर चुकी हैं।

उड़ाने भरने वाली 10 महिला फाइटर

वायुसेना में 10 महिला फाइटर पायलट और 18 नेवीगेटर हैं। वायुसेना में महिला अधिकारियों की संख्या 1875 है। 2018 में फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला बनी थीं। उनके अलावा फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहना सिंह और फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ पहली बार बतौर फाइटर पायलट वायुसेना में शामिल हुईं। इसके बाद सरकार ने महिलाओं के लिए भी खासतौर पर फाइटर स्ट्रीम खोलने का फैसला किया।

लो आ गया राफेल, देश के दुश्मनों का काल

मालूम हो कि पिछले महीने पांच राफेल विमानों को वायुसेना में शामिल किया गया था। उन्नत तकनीक और 4.5 पीढ़ी का विमान होने के चलते उम्दा फाइटर पायलट को ही राफेल उड़ाने की विशेष ट्रेनिंग दी जाती है। तो वहीं, पांच राफेल विमान को फ्रांस में ही भारतीय पायलटों को ट्रेनिंग देने के लिए रखा गया है। चार राफेल विमानों की अगली खेप नवंबर तक भारत को मिलेगी। सूत्रों के अनुसार, 2021 से आखिर तक भारत को 36 राफेल मिल जाएंगे।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here