टल सकती है शबनम की फांसी, ये है बड़ी वजह

अमरोहा की रहने वाली शबनम ने 14 अप्रैल 2008 को प्रेमी शलीम के साथ मिलकर अपने पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया था।

0
337
Shabnam Hanging Case
अमरोहा की रहने वाली शबनम ने 14 अप्रैल 2008 को प्रेमी शलीम के साथ मिलकर अपने पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया था।

New Delhi: अमरोहा (Amroha) के बावनखेड़ी में प्रेमी के साथ मिलकर पूरे परिवार को मौत के घाट उतारने वाली शबनम (Shabnam) को बचाने की कवायद शुरू हो गई है। माना जा रहा है कि उसके प्रेमी सलीम की वजह से उसकी फांसी की सजा टल सकती है।

जानिए, विश्वभारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में बोले PM

शबनम के वकील के मुतताबिक, “शबनम और सलीम की फाइलें सेशन कोर्ट से ही साथ चल रही हैं। अदालत ने दोनों को साथ फांसी की सजा सुनाई थी। हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में भी दोनों की फाइलें साथ चलीं। राष्ट्रपति ने भी दोनों की दया याचिका साथ खारिज की थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने अभी सिर्फ शबनम की पुनर्विचार याचिका में याचिका खारिज की है, सलीम की याचिका विचाराधीन है”।

पीड़ित परिवार को पुलिस ने किया नज़रबंद, धरने पर बैठे लोग

दोबारा पुनर्विचार याचिका दायर

7 लोगों को मौत के घाट उतारने वाली शबनम को बचाने की कोशिशें जारी है। जान बख्श देने की गुहार लगाते हुए शबनम ने दोबारा पुनर्विचार याचिका दायर की है। शबनम की दया याचिका को रामपुर जेल प्रशासन ने लखनऊ न्याय विभाग को भेज दिया है। वहां से पुनर्विचार याचिका राज्यपाल को भेजी जाएगी और फिर राजभवन से राष्ट्रपति (President Of India) को भेजी जाएगी।

बता दें की अमरोहा के बावनखेड़ी की रहने वाली शबनम ने 14 अप्रैल 2008 को प्रेमी सलीम (Salim) के साथ मिलकर अपने पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया था। 7 लोगों की हत्या के आरोप में शबनम और उसके प्रेमी सलीम को फांसी की सजा सुनाई गई थी।

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here