Vikas Dubey Ghost: बिकरू गांव में दिखता है विकास दुबे के भूत का साया…

अंधविश्वास में भयभीत बिकरू में रहने वालों लोग दिन ढलने के बाद विकास के मोहल्ले की ओर नहीं जाते। उन्‍होंने विकास दुबे के भूत को वहां मंडराते देखा है।

0
304
Vikas Dubey Ghost
बिकरू गांव में दिखता है विकास दुबे के भूत का साया

Uttar Pradesh: कानपुर के बिकरु गांव में विकास दुबे (Vikas Dubey) की दहशत अभी भी खत्म नहीं हुई है। विकास दुबे को मरे दो महीने से ज्यादा हो गए हैं पर उसके गांव से खौफ, भय और दहशत नहीं गई। पहले लोग विकास के खौफ से कांपते थे और अब गांव में आतंक है उसके भूत (Vikas Dubey Ghost) का, शाम ढलते ही इस गांव में सन्‍नाटा पसर जाता है, लोग अपने घरों से बाहर निकलने में कतराते हैं। कुछ लोगों ने दावा किया है कि उन्‍होंने विकास दुबे के भूत को वहां मंडराते देखा है।

Gangster Vikas Dubey की तलाश का चौथा दिन, लगाए गए पोस्टर

अंधविश्वास में भयभीत बिकरू (Bikru Village) में रहने वालों लोग दिन ढलने के बाद विकास के मोहल्ले की ओर नहीं जाते। गांव के लोग कहते हैं कि अपराधियों में किसी का क्रियाकर्म नहीं हुआ। उनकी आत्माएं भटकती हैं। पत्ता भी खनकता है तो शरीर सिहर उठता है। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि अब भी उन्‍हें रात में गोलियों की आवाजें सुनाई देती हैं। वहीं एक बुजुर्ग ने बताया कि कुछ दिनों पहले जब वह रात में लघुशंका के लिए उठे तो उन्‍होंने देखा कि विकास दुबे (Vikas Dubey Ghost) वहां बैठा मुस्‍कुरा रहा है।

खबरों के अनुसार एक ग्रामीण ने अपना नाम तो नहीं बताया लेकिन कहा, ‘आज भी गोलियों की आवाज सुनाई देती है। सब जानते हैं पर बोलता कोई नहीं। कुछ लोगों ने विकास भइया के भूत को देखा भी है।’ दबी जुबान में गांव वाले कहते हें कि उन्‍हें अकसर विकास दुबे अपने घर के खंडहर पर बैठा दिखाई देता है। हालांकि, विकास के टूटे मकान पर चार पुलिसवालों, दो पुरुष, दो महिलाओ की ड्यूटी लगी है। लेकिन ऑन रिकॉर्ड इनमें से किसी ने नहीं कहा कि उन्‍हें गोलियों की आवाजें सुनाई दीं या विकास के भूत को देखा।

Vikas Dubey Encounter: “ये कार नहीं पलटी है, सरकार पलटने से बचाई”- अखिलेश यादव

इन सब के चलते गांव वालों का कहना है कि, ‘हम लोग नवरात्र में यहां पूजा कराने की कोशिश करेंगे ताकि पुलिसवालों समेत यहां मारे गए लोगों की आत्‍माओं को शांति मिल सके।’ बता दें कि दो जुलाई की रात गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। इसके बाद महज 8 दिन के भीतर विकास दुबे और उसके पांच अन्य साथी पुलिस की गोली का शिकार हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here