हाथरस की युवती से नहीं हुआ गैंग रेप, चोट से हुई मौत – एडीजी प्रशांत कुमार

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने हाथरस मामले में दिया बयान। कहा कि मामले को जाति वादी एंगल देने की कोशिश की जा रही थी।

0
224
Postmortem Report
हाथरस की युवती से नहीं हुआ गैंग रेप, चोट से हुई मौत - एडीजी प्रशांत कुमार

Uttar Pradesh: उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras Kand) में हुए कथित गैंगरेप मामले में सियासत चरम पर है। इस बीच हाथरस जिले के एसपी विक्रांत वीर ने दावा किया कि युवती की मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, अलीगढ़ से मिली मेडिकल रिपोर्ट (Postmortem Report) में जख्म की बात तो है, लेकिन सेक्शुअल इंटरकोर्स की पुष्टि नहीं हो पाई है।

हाथरस केस में मारी गई लड़की की वायरल तस्वीर का सच, दो साल पहले हो चुकी है मौत

तो वहीं इस मामले में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर का भी बड़ा बयान सामने आया है। एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार (ADG L&O Prashant Kumar) ने पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट (Postmortem Report) को लेकर बड़ा दावा किया है। उनका कहना है कि मौत गले में लगी चोट की वजह से हुई है। एडीजी का कहना है कि मामले को जाति वादी एंगल देने की कोशिश की जा रही थी।

पुलिस का कहना है कि अब ऐसे लोगों पर एक्शन लिया जाएगा। तो वहीं इस केस से जुड़े कई अहम बातें एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कही है। प्रशांत कुमार ने कहा कि वारदात के बाद युवती ने पुलिस को दिए बयान में भी अपने साथ बलात्कार होने की बात नहीं कही थी। उन्होंने कहा कि उसने सिर्फ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया था।

बलरामपुर में गैंगरेप के बाद रिक्शे पर डालकर भेजा घर, पीड़िता की मौत

कुमार ने कहा कि सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने और जातीय हिंसा भड़काने के लिए कुछ लोग तथ्यों को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘पुलिस ने हाथरस मामले में तुरंत कार्रवाई की और अब हम उन लोगों की पहचान करेंगे जिन्होंने माहौल खराब करने और प्रदेश में जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश की।’ एडीजी ने कहा कि आंकड़ों के मुताबिक साल 2018 और 2019 में उत्तर प्रदेश महिलाओं के प्रति अपराधों में सजा दिलाने के मामले में शीर्ष पर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here