नकली NCERT किताब मामले पर अखिलेश यादव का सरकार पर निशाना

मेरठ पुलिस और एसटीएफ की टीम ने मेरठ के परतापुर थाना में एक प्रकाशक के यहां छापा मारकर एनसीईआरटी की 35 करोड़ की नकली किताबें बरामद की है.

0
321
NCERT
नकली NCERT किताब मामले पर अखिलेश यादव का सरकार पर निशाना

Delhi: उत्तर प्रदेश के मेरठ में एनसीईआरटी (NCERT) की 35 करोड़ नकली किताब छापने वाले गिरोह एसटीएफ (UP STF) के हत्थे चढ़ा है. इस खुलासे के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा है. शनिवार सुबह एक ट्वीट में उन्‍होंने लिखा कि शिक्षा-नीति में बदलाव करने वाली भाजपा पहले अपने उन नेताओं को नैतिक-शिक्षा के पाठ पढ़ाए जो करोड़ों रूपये के ‘नकली किताबों’ के गोरखधंधे में संलिप्त हैं. सपा अध्‍यक्ष ने लिखा कि नक़ली ईमानदारी का चोगा ओढ़े लोगों का सच अब सामने आ गया है.

यूपी विधानसभा के मानसून सत्र का आज अंतिम दिन, विपक्ष का हंगामा लगातार जारी

आपको बता दें कि शुक्रवार को मेरठ पुलिस और एसटीएफ के ज्वाइंट ऑपरेशन में करीब 35 करोड़ की नकली किताबें (NCERT) और मशीनरी बरामद हुई हैं. पुलिस ने फैक्ट्री और गोदाम समेत 3 जगहों को सील कर दिया है मामले में एक दर्जन से ज्यादा लोग हिरासत में ले लिए गए हैं. छापेमारी के दौरान गैंग के सरगना का पॉलिटिकल कनेक्शन के सामने आया है. कई दस्तावेज जलाए गए हैं, जिनकी जांच में फॉरेंसिक, पुलिस, एसटीएफ, जीएसटी और एनसीईआरटी समेत कई एजेंसियां इस मामले की जांच में जुट गए हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए ये होगी गाइडलाइंस

मेरठ पुलिस और एसटीएफ की टीम ने मेरठ के परतापुर थाना में एक प्रकाशक के यहां छापा मारकर एनसीईआरटी की 35 करोड़ की नकली किताबें बरामद की है. टीम ने मौके से दर्जनभर लोगों को हिरासत में ले लिया. बता दें कि एनसीईआरटी का देश भर में एक ही कोर्स है, जिसके प्रकाशन का अधिकार दिल्ली के कुछ चुनिंदा प्रकाशकों को ही है. पूछताछ में पता चला कि किताबें प्रकाशित कर उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, दिल्ली समेत कई राज्यों में सप्लाई की जाती थीं. अधिकांश किताबें 9वीं से 12वीं तक की फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ्स की हैं. इस फैक्ट्री में एनसीईआरटी व अन्य की करीब 364 तरह की नकली किताबें छापी जाती थीं. पुलिस ने बताया कि प्रकाशक की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here