इटली से हनीमून मनाकर लौटी थी महिला, पुलिस बुलाकर अस्पताल मे कराया भर्ती

0
674
Corona Update
Corona virus

आगरा: देश में कोरोना के बढ़ते प्रकोप से शासन-प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है, इसी बीच उत्तर प्रदेश के आगरा से एक मामला सामने आया है. जहां इटली से हनीमून मनाकर लौटी महिला को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा ।

दरअसल, इस महिला का पति बंगलूरू में कोरोना संक्रमित पाया गया था। इसका पता चलने पर वो बंगलूरू से आगरा आ गई, उसके परिजन स्वास्थ्य विभाग की टीम को गुमराह कर रहे थे। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) की लैब में भेजे गए महिला के सैंपल की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

दूसरा सैंपल लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय (केजीएमयू) को भेजा गया है। अगर केजीएमयू की जांच में उसका सैंपल कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है, तब ही महिला को कोरोना संक्रमित घोषित किया जाएगा अन्यथा नहीं।

जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह के हवाले से खबर है कि महिला की जांच रिपोर्ट आने का इंतजार है. इस महिला की एक माह पहले शादी हुई थी . आगरा कैंट क्षेत्र निवासी एक रेलवे कर्मचारी की बेटी का विवाह एक माह पहले कर्नाटक में नौकरी करने वाले युवक के साथ हुआ था। शादी के बाद दोनों हनीमून के लिए इटली गए थे। इटली से लौटने के बाद पति में कोरोना वायरस की पुष्टि हो गई.

जिसके बाद महिला को भी आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था, लेकिन सैकड़ों लोगों की सुरक्षा को खतरे में डालकर महिला बंगलूरू से अपने परिवार के पास आगरा आ गई। जैसे ही इस बात की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को लगी हड़कंप मच गया।

स्वास्थ्य विभाग की रेपिड रिस्पॉन्स टीम ने पहले उसे रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां से उसे जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड भेजा गया। आगरा से आए महिला सहित 12 लोगों के सैंपल अलीगढ़ भेजे गए थे। इनमें से 11 नेगेटिव पाए गए हैं.

महिला के सैंपल में कोरोना वायरस से संक्रमित होने की बात सामने आई है। एएमयू के प्रिंसिपल प्रो. शाहिद अली सिद्दीकी ने बताया कि अधिक पुष्टि के लिए नमूने को लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज भेजा गया है ।

महिला को लेने के लिए रैपिड रिस्पांस टीम को दो घंटे तक इंतजार करना पड़ा। परिजनों ने महिला की जानकारी छिपाते हुए उसके दिल्ली जाने की बात बताई थी। जिससे स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गाया. पुलिस की मदद से महिला को आइसोलेशन वार्ड ले जाया गया.

सीएमओ डॉ. मुकेश वत्स ने बताया कि परिजन मरीज की सही जानकारी नहीं दे रहे थे, रेलवे अधिकारी और सभी ने काउंसलिंग कर समझाया। जिसके बाद परिवार वालों ने संभावित मरीज को ले जाने दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here