इस राज्य में लागू हुआ लव जिहाद का कानून, सरकार ने दी मंजूरी

लव जिहाद करने वालों पर अब तलवार लटकती हुई नजर आ रही है। लव जिहाद विरोधी विधेयक शिवराज सरकार की तरफ से लागू कर दिया गया है।

0
158
Love Jihad Law
लव जिहाद करने वालों पर अब तलवार लटकती हुई नजर आ रही है। लव जिहाद विरोधी विधेयक शिवराज सरकार की तरफ से लागू कर दिया गया है।

Madhya Pradesh: लव जिहाद (Love Jihad Law MP) को लेकर कई राज्यों में कानून लागू किया जा रहा है। इस बीच मध्य प्रदेश में लव जिहाद करने वालों पर अब तलवार लटकती हुई नजर आ रही है। लव जिहाद विरोधी विधेयक ‘धर्म स्वातंत्र्य विधेयक 2020’ को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है। आपको बता दें नए कानून में कुल 19 प्रावधान हैं, जिसके तहत अगर धर्म परिवर्तन के मामले में पीड़ित पक्ष के परिजन शिकायत करते हैं तो पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई (Love Jihad Law MP) करेगी। 

हर व्यक्ति का होगा विकास, किसानों के हित में आया नया बिल- भदौरिया

अगर किसी शख्स पर नाबालिग, अनुसूचित जाति जनजाति की बेटियों को बहला फुसला कर शादी करने का आरोप लग रहा है तो उसे दो साल से 10 साल तक कि सजा दी (Love Jihad Law MP) जाएगी। अगर कोई शख्स धन और संपत्ति के लालच में धर्म छिपाकर शादी करता हो तो उसकी शादी मानी ही नहीं जाएगी।

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) ने कहा कि हमने अपने राज्य में देश का सबसे बड़ा कानून बनाया है। अब इस विधेयक को विधानसभा में लाया जाएगा। 28 दिसंबर से मध्य प्रदेश विधानसभा सत्र पर इस कानून को लेकर चर्चा की जा सकती है। अगर उत्तर प्रदेश की बात की जाए तो इस कानून को पहले ही पास कर दिया गया था। यूपी में धोखे से धर्म बदलवाने पर 10 साल तक की सजा होगी। इसके अलावा धर्म परिवर्तन के लिए जिलाधिकारी को दो महीने पहले जानकारी देना होगा। 

BJP का नीतीश को झटका, सरकार के हाथों अरुणाचल के 6 MLA

इससे पहले 26 नवंबर को कांग्रेस सरकार ने लव जिहाद (Madhya Pradesh Love Jihad Law ) को कानून बनाने से इंकार कर दिया था। साथ ही कहा था कि मध्य प्रदेश सरकार को लागू नहीं करने देंगे। दरअसल, कांग्रेस सरकार का कहना है कि जिस विधायक की बात बीजेपी कर रही है उस पर पहले से ही कानून बन गया है। ये कानून 1968 में बना था। कांग्रेस ये भी कहना है कि इस कानून से जुड़े सभी तथ्यों को सरकार को उजागर करना चाहिए। 1968 के कानून के दौरान 2 साल की सजा का प्रावधान था और थाने से जमानत मिल जाती थी। इसके अलावा धर्मांतरण को लेकर भी कलेक्टर को जानकारी नहीं दी जाती थी। बीजेपी सरकार का कहना है कि जो पहले नहीं हुआ वो अब होगा। 

राज्यों से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें State News in Hindi


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here