Kanpur Encounter: विकास दुबे के साथियों की तस्वीेरें हुई जारी

उत्‍तर प्रदेश पुलिस ने कानपुर एनकाउंटर मामले में फरार विकास दुबे के 15 साथियों की तस्‍वीरें जारी की है।

0
566
kanpur encounter

Uttar Pradesh: यूपी पुलिस ने कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) मामले में फरार विकास दुबे (Vikas Dubey) के अलावा उसके 15 साथियों की तस्‍वीरें जारी की है। एडीजी प्रशांत कुमार ने मंगलवार को कहना है कि जब तक विकास दुबे और उसके साथियों को अरेस्‍ट नहीं कर लेते हैं, तब तक चुप नहीं बैठेंगे।

Gangster Vikas Dubey की तलाश का चौथा दिन, लगाए गए पोस्टर

मंगलवार को यूपी पुलिस ने (Kanpur Encounter) अपराधी विकास दुबे के जिन 15 साथियों के नाम जारी किए हैं, उनमें हैं अमर दुबे, विष्‍णुपाल सिंह उर्फ जिलेदार, शिव तिवारी, राम नरेश नागर, मनोज, चंद्रजीत, संतोष कुमार, रणवीर, लाला राम, जीत कुमार, इंद्रजीत, सत्‍यम उर्फ लुट्टन, नाहर सिंह उर्फ धर्मेंद्र सिंह हैं।

विकास दुबे को पकड़ने के लिए फोर्स तेज, चौबेपुर थानेदार हुआ सस्पेंड

बता दें कि 2-3 जुलाई की रात कानपुर में चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू निवासी अपराधी विकास दुबे को उसके गांव पकड़ने पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था, जिसमें एक क्षेत्राधिकारी, एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे। इस दौरान पांच पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक आम नागरिक घायल हुआ था।

कानपुर में हुए मुठभेड़ पर DSP समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

UP Police के एडीजी ने कहा कि घायल पुलिसकर्मी खतरे के बाहर हैं। मुख्‍यमंत्री ने घटनास्‍थल का दौरा किया था और मृतकों के परिवारों से मिले थे। शहीद हुए पुलिसकर्मियों के परिवारों को 1 करोड़ रुपए दिए गए हैं और अतिरिक्‍त पेंशन और परिवार के एक सदस्‍य को जॉब की घोषणा भी की गई है।

कानपुर मुठभेड़ : विकास दुबे के दोस्त ने किया ये बड़ा खुलासा

उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल गैंगस्टर विकास दुबे के रिश्‍तों की जांच की जा रही है। अपराधी दुबे को ढूंढ़ने के लिए 40 थानों की पुलिस की 25 टीमों लगी हुई है। इसके अलावा। मामले में अब तक चार पुलिसकर्मी निलंबित किए जा चुके है। सोमवार को तीन और पुलिस कर्मी निकाले गए। पहले दुबे पर पचास हजार रुपए का इनाम था, जिसे बाद में बढ़ाकर एक लाख रुपए किया गया और फिर बढ़ाकर ढाई लाख रुपए तक किया जा चुका है।

वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीएम योगी आदित्यनाथ ने विकास का पता लगाने के लिए पुलिस को एक हफ्ते का अल्टीमेटम दिया है, जिसके कारण पुलिस हर हाल में विकास गिरफ्तार करना चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here