बॉम्बे हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, निर्वस्त्र किए बिना स्तन को छूना यौन उत्पीड़न नहीं

अदालत के फैसले में संशोधन करते हुए कहा कि लड़की को निर्वस्त्र किए बिना उसके स्तन को छूना यौन उत्पीड़न नहीं होता।

0
787
High Court of Mumbai
अदालत के फैसले में संशोधन करते हुए कहा कि लड़की को निर्वस्त्र किए बिना उसके स्तन को छूना यौन उत्पीड़न नहीं होता।

Mumbai: बॉम्बे हाईकोर्ट (High Court of Mumbai) ने एक बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने सत्र अदालत के फैसले में संशोधन करते हुए कहा कि लड़की को निर्वस्त्र किए बिना उसके स्तन को छूना यौन उत्पीड़न नहीं माना जा सकता है। इसके लिए त्वचा से त्वचा का टच (High Court of Mumbai) होना जरूरी है। 

26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली की मिली अनुमति, जानिए रुट

दरअसल, हाई कोर्ट (High Court of Mumbai) की नागपुर बेंच की न्यायमूर्ति पुष्पा गनेडीवाला ने 19 जनवरी को पारित एक आदेश में कहा कि किसी हरकत को यौन हमला माने जाने के लिए ‘गंदी मंशा से त्वचा से त्वचा का संपर्क होना’ जरूरी है। उन्होंने अपने फैसले में कहा कि महज छूना भर यौन हमले की परिभाषा में नहीं आता है। कोर्ट ने सत्र अदालत के एक फैसले में संशोधन किया जिसने 12 साल की लड़की का यौन उत्पीड़न करने के लिए 39 वर्षीय व्यक्ति को तीन साल की सजा दी गई थी। 

इस बार का गणतंत्र दिवस होगा कुछ अलग, ये चीजें रहेंगी बैन…

ये था पूरा मामला-

दरअसल, अभियोजन पक्ष और नाबालिग पीड़िता की अदालत में गवाही के मुताबिक, दिसंबर 2016 में आरोपी सतीश नागपुर में लड़की को खाने का कोई सामान देने के बहाने अपने घर ले गया। जहां उसने लड़की के स्तन को छुआ। इस पर अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि, आरोपी शतीश ने लड़की को निर्वस्त्र किए बिना उसके स्तन को छूने की कोशिश की। इसलिए ये मामला पाक्सो एक्ट के तहत नहीं आता है। बल्कि यह मामला महिला के इज्ज़त से जुड़ा हुआ है इसलिए इसमें 354 के तहत केस चलना चाहिए। हाईकोर्ट ने आरोपी को पाक्सो एक्ट के कानून से बरी कर दिया और 354 के तहत सजा को बरकऱार रखा। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here