मेट्रो में नियमों की अनदेखी पर इतने लोगों पर लगा जुर्माना

मेट्रो संचालन के बाद से लोग सोशल मीडिया पर फोटोज डालकर डीएमआरसी को टैग कर रहे है, जिनमें लोग बिना मास्क नियमित दूरी के मेट्रो में बैठे या घूम रहे है।

0
161
Metro Guidelines
मेट्रो में नियमों की अनदेखी पर इतने लोगों पर लगा जुर्माना

Delhi: कोरोना वायरस (Coronavirus Outbreak) के बाद एक बार फिर पटरी लौटी मेट्रो (Metro) शनिवार से पूरा समय यानी सुबह 6 बजे से रात 11 बजे तक चलेगी। इसके साथ ही एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन भी शुरू कर दी गई है। लेकिन दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) में नियमों (Metro Guidelines) का ख्याल ना रखने पर जुर्माना भी भरना पड़ेगा। शुक्रवार को लोगों में सावधानी देखने के लिए सभी लाइनों पर फ्लाइंग स्क्वॉड के जरिए जांच अभियान चलाया गया। जिसमें फ्लाइंग स्क्वॉड ने दिल्ली मेट्रो में नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए 92 यात्रियों को पकड़ा। और इन सभी यात्रियों से जुर्माना भी वसूला गया।

सीट शेयरिंग को लेकर जेपी नड्डा और नीतीश कुमार की मुलाकात

डीएमआरसी के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल ने बताया कि, 150 से ज्यादा यात्रियों को फ्लाइंग स्क्वॉड ने नियमों (Metro Guidelines) के बारे में बताया और समझा कर छोड़ दिया। उन्होंने बताया, ’92 यात्रियों से दिल्ली मेट्रो ऑपरेशन ऐंड मैनेजमेंट ऐक्ट की धारा 59 के तहत 200 रुपये का जुर्माना वसूला भी गया। फ्लाइंग स्क्वॉड ने इन सभी लोगों को मेट्रो के अंदर नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए पकड़ा।’ आपको बता दें कि मेट्रो संचालन के बाद से लोग सोशल मीडिया पर फोटोज डालकर डीएमआरसी को टैग कर रहे है, जिनमें लोग बिना मास्क नियमित दूरी के मेट्रो में बैठे या घूम रहे है। ऐसी तमाम शिकायतों पर एक्शन लेने के लिए अब डीएमआरसी ने शनिवार से सभी लाइनों पर फ्लाइंग स्क्वॉड तैनात करने का फैसला किया है।

इस कारण रुका सबसे आगे चल रही कोरोना वैक्सीन का ट्रायल

दिल्ली मेट्रो के एमडी मंगू सिंह ने ट्विटर पर विडियो जारी कर कहा कि सोशल डिस्टेंस नॉर्म्स के चलते मेट्रो की क्षमता काफी कम हो गई है। पहले 250-300 पैसेंजर एक कोच में ले जाते थे, अब वह क्षमता घटकर सिर्फ 50 रह गई है। ऐसे में यात्रियों से अनुरोध है कि यात्री इस तरह प्लान करें कि पीक अवर्स में यात्रा न करनी पड़े। अगर, आप ऐसा करेंगे, तो दिल्ली मेट्रो आपको अच्छी, बेहतर सर्विस प्रदान कर सकती है। तभी ज्यादा यात्रियों को गन्तव्य तक पहुंचा सकते हैं। सभी नौकरी दाताओं से प्रार्थना है कि अपने ऑफिस टाइमिंग में कुछ बदलाव कर लें। कर्मचारियों को टाइम एडजस्ट करने की परमिशन दें। जो लोग वर्क फ्रॉम कर सकते हैं, तो उन्हें अनुमति दें। पीक अवर्स से बचे और सलाह है कि नॉन पीक अवर्स में भी पीक अवर्स की तरह सर्विस रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here