हिंसा पर पंजाब के पूर्व CM ने जताई चिंता, बोले- डेमोक्रेसी सिर्फ दो स्तर पर सिमट गई

0
492
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री - प्रकाश सिंह बादल

दिल्ली हिंसा को लेकर बीजेपी के सहयोगी अकाली दल के नेता और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल का बयान सामने आया है. प्रकाश सिंह बादल ने दिल्ली में हुई हिंसा पर चिंता जाहिर करते हुए कहा, देश में ना तो सेकुलरिज्म है, ना ही सोशलिज्म है. अमीर, अमीर होता जा रहा है गरीब, गरीब होता जा रहा है.

प्रकाश सिंह बादल ने सेकुलरिज्म, सोशलिज्म और डेमोक्रेसी को लेकर सवाल उठाए. बादल ने कहा, ये बहुत बड़ी बदकिस्मती है. अमन-शांति के साथ रहना बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि हमारे देश के विधान में तीन चीजें लिखी हैं, जो सेकुलरिज्म, सोशलिज्म और डेमोक्रेसी. यहां ना तो सेकुलरिज्म है, ना ही सोशलिज्म है.

अमीर, अमीर होता जा रहा है गरीब, गरीब होता जा रहा है. पूर्व सीएम ने लोकतंत्र के अस्तित्व को लेकर सवाल खड़े करते हुए कहा, डेमोक्रेसी भी सिर्फ दो स्तर पर ही रह गई है, एक लोकसभा इलेक्शन और दूसरा स्टेट इलेक्शन, बाकी कुछ नहीं…

प्रकाश सिंह बादल से पहले पूर्व प्रधानमंत्री इंद्रकुमार गुजराल के बेटे और अकाली दल के नेता नरेश गुजराल ने दिल्ली पुलिस की उदासीनता पर सवाल उठाए. नरेश गुजराल ने हिंसा को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा था. उन्होंने कहा था कि हर बार अल्पसंख्यकों को ही हिंसा में निशाना बनाया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है.

गुजराल ने कहा, मैं 1984 को फिर से होता हुआ नहीं देखना चाहता हूं. मुझे दिल्ली वाला होने पर गर्व है. उन्होंने कहा, पिछली बार ये सिख थे और इस बार ये मुसलमान हैं. दुर्भाग्य से हर बार अल्पसंख्यक समुदाय ही हमले की चपेट में है. 1984 में सिख विरोधी दंगे हुए थे. उस दौरान हजारों लोगों की जान गई थी.

नरेश ने अपने खत में लिखा, ‘मैंने फोन पर एक घर में फंसे 16 मुस्लिमों की जानकारी दी और ऑपरेटर को बताया कि मैं संसद सदस्य हूं. नरेश गुजराल ने कहा, 11:43 बजे मुझे दिल्ली पुलिस से पुष्टि मिली कि मेरी शिकायत संख्या 946603 के साथ प्राप्त हुई. हालांकि, मुझे निराशा हुई जब मेरी शिकायत पर कोई कार्रवाई हुई और उन 16 व्यक्तियों को दिल्ली पुलिस से कोई सहायता नहीं मिली।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here