ऑटो-टैक्सी चालकों की दिल्ली सरकार करेगी आर्थिक मदद, कैबिनेट की मंजूरी

दिल्ली के सभी पीएसवी बैज और परमिट धारकों को 5-5 हजार रुपये की वित्तीय सहायता दी Delhi Lockdown News जाएगी।

0
213
Delhi Lockdown News
दिल्ली के सभी पीएसवी बैज और परमिट धारकों को 5-5 हजार रुपये की वित्तीय सहायता दी Delhi Lockdown News जाएगी।

New Delhi: लॉकडाउन लगने की वजह से कई ऑटो चालकों की कमाई पर असर पड़ा (Delhi Lockdown News) है। इसी को देखते हुए दिल्ली सरकार ने पांच-पांच हजार देने की बात कही है। इस योजना के मुताबिक दिल्ली के सभी पीएसवी बैज और परमिट धारकों को 5-5 हजार रुपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी। 

ब्लैक फंगस के इलाज की गाइडलाइन जल्द होगी जारी, सीएम ने दिए आदेश

दिल्ली सरकार (Delhi Lockdown News) ने राज्य में कोरोना के चलते 19 अप्रैल से एक हफ्ते का लॉकडाउन कर दिया था। इसके बाद लॉकडाउन 26 अप्रैल को खत्म हो रहा था, लेकिन स्थिति को देखते हुए सात-सात दिन के लिए लॉकडाउन की मियाद बढ़ाने का फैसला किया। दिल्ली में अब भी लॉकडाउन लागू है।

खास बात है कि ऑटो चालकों को इस योजना (Delhi Lockdown News) के लिए फिर से अप्लाई करने की जरूरत नहीं है। पिछली योजना में जिन लोगों ने इसका लाभ उठाया था, उन सभी चालकों का आंकड़ा सरकार के पास है और सरकार इन सभी चालकों को दोबारा सहायता राशि देगी। 

UP में Black Fungus के अब तक 76 केस, जानिए अस्पतालों के लिए जारी हुए दिशा-निर्देश

2020 में आई थी योजना

2020 में कोरोना (Coronavirus) की पहली लहर शुरु हो गई थी। तब भी दिल्ली सरकार की तरफ से अलग-अलग योजनाएं शुरु की गई थी। कुल 78 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान की गई थी। दिल्ली में इस समय 2.80 लाख से अधिक पीएसवी बैज धारक और 1.90 लाख परमिट धारक हैं। जिन लोगों को पिछले साल किसी भी कारण से वित्तीय सहायता नहीं मिली थी, उन्हें वेबसाइट पर फिर से आवेदन या पंजीकरण करना होगा। दिल्ली परिवहन विभाग की वेबसाइट पर कुछ दिनों के अंदर लिंक को सक्रिय किया जाएगा। 

राज्यों से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें State News in Hindi


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here