बिहार चुनाव से पहले NDA में वापसी करेंगे ये मंत्री…

बिहार में विधानसभा चुनाव अब दूर नहीं, ऐसे में महागठबंधन को लेकर मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं।

0
334
Bihar Vidhansbha Election 2021
बिहार चुनाव से पहले NDA में वापसी करेंगे ये मंत्री

Bihar: बिहार में विधानसभा चुनाव अब दूर नहीं (Bihar Vidhansbha Election 2020) ऐसे में महागठबंधन को लेकर मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। पहले से ही कई विधायक जेडीयू में शामिल हो गए है। और अब पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी महागठबंधन का हाथ छोड़ दिया और एनडीए का दामन थाम लिया है। जीतन मांझी के साथ-साथ केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी यानी (RSSP) को अलविदा कहने की बात कही है।

ये भी पढ़े- बिहार में शुरु हुई पोस्टरवार, लालू यादव को बताया कैदी नंबर 3351

पिछले साल हुए लोकसभा चुनाव से पहले (Bihar Vidhansbha Election 2020) आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने छोटे दलों की तरफ से बीजेपी के अहंकार का हवाला देते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था और महागठबंधन में शामिल हो गए थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए में रहते हुए आरएलएसपी को तीन सीटें मिली थीं और पार्टी ने तीनों पर जीत दर्ज की थी। हालांकि पिछले लोकसभा चुनाव में महागठबंधन का हिस्सा रहते हुए पार्टी को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली।

महागठबंधन पर राजनीति को लेकर बीजेपी एमएलसी और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान ने (Bihar Vidhansbha Election 2020) इस पूरे प्रकरण पर कहा कि उपेंद्र कुशवाहा का एनडीए ने हमेशा स्वागत किया है। उनके आने से एनडीए का वोट बैंक कभी कम नही हुआ, साथ ही कहा कि कुशवाहा को एनडीए में वापस आ जाना चाहिए। अगर एनडीए का परिवार बढ़ता है तो हमें विधानसभा चुनाव में 204 से कम सीटें नहीं मिलेंगी।

ये भी पढ़े- PM मोदी ने चुनाव से पहले बिहार को दी 541 करोड़ की सौगात

एक तरफ जहां उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) को टिकट को लेकर कोई आश्वासन नहीं मिल रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ उपेंद्र कुशवाहा के ही दल के नेताओं को तेजस्वी ने रातों-रात अपने पार्टी में शामिल कर लिया है। इस बात को लेकर उपेंद्र कुशवाहा काफी नाराज बताए जा रहे हैं। हालांकि बीते दिनों रालोसपा युवा के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मोहम्मद कामरान को अपनी पार्टी की सदस्यता दिलाई जिससे कुशवाहा बढ़ते हुए बताए जाते हैं। सूत्रो की माने तो आरजेडी ने उपेंद्र कुशवाहा की ही पार्टी में आग लगा दी है।

गोरतबल है कि रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) का भी गठबंधन से मोह भंग हो चुका है। उपेन्द्र कुशवाहा कभी भी गठबंधन को अलविदा कह सकते हैं। बता दें कि सीट बंटवारे को लेकर के उपेंद्र कुशवाहा लगातार मांग करते रहे हैं। इसको लेकर कभी कांग्रेस के आलाकमान तो कभी तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) से मुलाकात भी करते हुए नजर आए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here