वर्ल्ड कप स्पेशल : World Cup से बाहर होने के बाद रवि शास्त्री पर बरसे योगराज सिंह, धोनी को बताया जलेबी तलने वाला हलवाई

आईसीसी विश्व कप में भारतीय टीम के सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह ने कोच रवि शास्त्री और महेंद्र सिंह धोनी को लेकर निशाना साधा है. योगराज सिंह ने कोच रवि शास्त्री पर गंभीर आरोप लगाए हैं और महेंद्र सिंह धोनी को जलेबी तलने वाला तक कहा है.

0
186

नई दिल्ली: आईसीसी विश्व कप में भारतीय टीम के सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह ने कोच रवि शास्त्री और महेंद्र सिंह धोनी को लेकर निशाना साधा है. योगराज सिंह ने एक हिंदी अंखबार से बात करते हुए कोच रवि शास्त्री पर गंभीर आरोप लगाए हैं और महेंद्र सिंह धोनी को जलेबी तलने वाला तक कहा है.

योगराज सिंह ने कहा, ‘मैं उम्मीद नहीं कर सकता था कि रवि शास्त्री भी इतना घटिया इन्सान हो सकता है. अब ये दोनों (धोनी और शास्त्री) मिल गए और युवराज को टीम से बाहर कर दिया क्योंकि बाहर श्रीनिवासन जैसे इंसान बैठे हुए थे. ये सिलसिला यहीं नहीं रूका और उसके बाद रवि शास्त्री ने यो-यो टेस्ट शुरू कर दिया. युवी से कहा गया कि यो-यो टेस्ट पास करोगे, तभी टीम में शामिल किया जाएगा. युवराज सिंह ने यो-यो टेस्ट पास किया, लेकिन इसके बावजूद उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया क्योंकि शास्त्री युवी को टीम में नहीं चाहता था. मुझे नहीं पता कि युवराज ने शास्त्री की कौन सी भैंस या बकरी चोरी कर ली, जो उसने ऐसा किया.’

वही योगराज सिंह ने चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद को भी नहीं छोड़ा और आड़े हाथों लेते हुए कहा, ‘एमएसके प्रसाद जिसे क्रिकेट की ABC नहीं पता, सेलेक्टर बने हुए हैं. इन्होंने रायुडू के ऊपर विजय शंकर को ये कहकर तरजीह दी कि वो 3-डी प्लेयर है. इनसे कोई पूछे कि थ्री-डी प्लेयर होता क्या है? आपने चश्मा लगाकर पिक्चर देखनी है जो थ्री-डी प्लेयर है.’

योगराज सिंह ने इंटरव्यू में खुलासा करते हुए कहा, ‘जब अनिल कुंबले को कोच और विराट कोहली को कप्तान बनाया गया थो तो उन्होंने सबसे पहले युवराज सिंह को टीम में शामिल करने का काम किया. युवराज सिंह ने टीम में आते ही इंग्लैंड के खिलाफ 150 रन बनाए और उसके बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ अर्द्धशतक बनाया. उसके बाद जब कुंबले को कोच पद से हटाया जाता है, तो रवि शास्त्री कोच बनता है. शास्त्री कोच बनते ही सबसे पहला काम क्या करता है कि युवराज सिंह को टीम से बाहर करता है क्योंकि शास्त्री और धोनी की सोच एक जैसी है. मुझे दुख इस बात का है कि शास्त्री ने मेरे साथ भारत के लिए डेब्यू किया, मेरे साथ खेला और इतना बड़ा खिलाड़ी बना.’

इसके अलावा योगराज सिंह ने पीसीए के सेलेक्टर शरनदीप सिंह को भी जमकर लताड़ा. उन्होंने कहा,’ शरनदीप सिंह सेलेक्शन कमेटी को जाकर कहता है कि युवराज सिंह बूढ़े हो चुके हैं, आप किसी ओर को टीम में ले लो.’

योगराज सिंह ने भारत की न्यूजीलैंड के खिलाफ हार पर बोला, ‘रवींद्र जडेजा बहुत बहादुरी से बल्लेबाजी कर रहे थे. अगर उस समय धोनी भी दो-तीन बड़े शॉट लगाता तो भारत दो ओवर पहले मैच जीत जाता.’

योगराज सिंह  ने धोनी को ‘जलेबी तलने वाला हलवाई’ तक कह दिया. आग बबूले योगराज सिंह ने धोनी की धीमी बल्लेबाजी को भारत का हार कारण बताया. इसके अलावा युवी के पिता ने यहां तक कह दिया कि अगर धोनी ने सेमीफाइनल में डाइव लगाई होती, तो वो रन आउट ना होते. 2015 विश्व कप के सेमीफाइनल और 2019 विश्व कप के सेमीफाइनल में भारत की हार के लिए महेंद्र सिंह धोनी को जिम्मेदार ठहराया है.

योगराज सिंह ने कहा, ‘महेंद्र सिंह धोनी ने गौतम गंभीर, वीरेंद्र सहवाग, वीवीएस लक्ष्मण, राहुल द्रविड़, युवराज सिंह जैसे कई बड़े खिलाड़ियों को मैदान से रिटायरमेंट नहीं लेने दी, अब अगर धोनी को मैदान से रिटायरमेंट मिली, तो मैं आवाज उठाऊंगा. जैसे इन बड़े खिलाड़ियों को संन्यास लेने के लिए मजबूर किया गया, वैसे ही धोनी को भी धक्के देकर बाहर निकालना चाहिए. पर मुझे लगता है कि धोनी खुद रिटायरमेंट नहीं लेगा, उसे धक्के मारकर बाहर निकालना पड़ेगा.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here