खरना के साथ शुरू होगा 36 घंटे का निर्जला व्रत, जान लें प्रसाद बनाने के सख्त नियम

छठ पूजा का आरंभ हो गया है आज 19 नवंबर को खरना है। हिंदु पंचांग के अनुसार यह कार्तिक मास की पंचमी को मनाया जाता है।

0
198
Chhath Puja 2020 Kharna
खरना के साथ शुरू होगा 36 घंटे का निर्जला व्रत, जान लें प्रसाद बनाने के सख्त नियम

New Delhi: छठ पूजा (Chhath Puja 2020 Kharna) का आरंभ हो गया है, बुधवार यानी 18 नवंबर को छठ का पहला पर्व नहाय-खाय था। और आज 19 नवंबर को खरना है। हिंदु पंचांग के अनुसार यह कार्तिक मास की पंचमी को मनाया जाता है। खरना के दिन छठी माता की पूजा के लिए खरीदारी और तैयारी की जाती है। इस दिन व्रत करने वाले लोग शाम को शांतिपूर्ण वातावरण में पूजा करते हैं।

इस साल कब है छठ, नहाय-खाय और खरना? जानें पूजा विधी, मुहर्त तथा महत्व

गोधूली बेला में खीर और फलों का प्रसाद बना कर व्रतियां अर्घ्य देते है। खरना का प्रसाद ग्रहण करने के साथ 36 घंटे का कठिन निर्जला उपवास शुरू हो जाता है, जो कि सूर्य भगवान को सुबह अर्घ्य देने के बाद ही खत्म होगा। शुक्रवार को अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। 21 नवंबर की सुबह उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के बाद व्रतियां व्रत का पारण करते है। इसके साथ ही छठ महापर्व संपन्न होता है। चार दिनों तक चलने वाले इस महापर्व (Chhath Puja) सभी छठ मैया की भक्ति में लगे रहते हैं।

भोग बनाने कि लिए सख्त नियम

छठ पूजा के लिए भोग बनाने के लिए कई सख्त नियमों का पालन किया जाता है। भोग बनाने के लिए सुबह स्नान करने के बाद नए कपड़े पहनने होते हैं, और हाथों पर अंगूठी ना पहने। भोग के लि खीर बनाई जाती है, कहीं पर बिना चीनी की दूध की खीर बनाई जाती है तो कहीं पर गुड़ की खीर के साथ पूड़ी का भोग लगाने की परंपरा है। वहीं कहीं पर मीठे चावल भी चढ़ाए जाते है। पूड़ी-खीर के साथ ज्यादातर क्षेत्रों में इस पर पका केला ही चढ़ाया जाता है।

आज नहाय-खाय से हुई छठ पूजा की शुरूआत, जानें महत्व और पौराणिक कथा

खरना (Chhath Puja 2020 Kharna) के भोजन के लिए गुड़ की खीर खाने की परंरपरा है, साथ में आटे की मोटी रोटी भी खाई और बांटी जाती है। खाना बनाते समय स्वच्छता का काफी ख्याल रखा जाता है। ‘खरना’ का भोजन मिट्टी के चूल्हे में बनाया जाता है , इसके लिए घर की महिलाएं घर का वो कोना चुनती हैं, जहां पर शोर ना हो और आने-जाने वाले लोग भी कम हो।

रिलीजन से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें Dharm News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here