अगर बार-बार पड़ते हैं बीमार तो इन पत्तों का करें सेवन और बीमारियों को कहें बाय-बाय

बीमार तो कोई भी हो सकता है और बिमारी भी किसी भी तरह की हो सकती है, लेकिन कई बीमारी ऐसी होती है जो ज्यादा बड़ी तो नहीं होती पर जल्दी से ठीक नहीं होती है। ऐसे में कई बार इस तरह की बीमारी लाइलाज सी लगने लगती हैं। हालांकि, ये बीमारी लाइलाज होती नहीं है, पर बार-बार बीमार पड़ने के बाद पीड़ित रोगी में एक झल्लाहट सी हो जाती है, जो मानसिक रूप से भी परेशान करती है। ऐसे में कुछ पत्ते इस तरह की बीमारियों में काफी लाभकारी होते हैं। चलिए जानते हैं कौन-से हैं वो पत्ते-

0
654

नई दिल्ली: बीमार तो कोई भी हो सकता है और बिमारी भी किसी भी तरह की हो सकती है, लेकिन कई बीमारी ऐसी होती है जो ज्यादा बड़ी तो नहीं होती पर जल्दी से ठीक नहीं होती है। ऐसे में कई बार इस तरह की बीमारी लाइलाज सी लगने लगती हैं। हालांकि, ये बीमारी लाइलाज होती नहीं है, पर बार-बार बीमार पड़ने के बाद पीड़ित रोगी में एक झल्लाहट सी हो जाती है, जो मानसिक रूप से भी परेशान करती है। ऐसे में कुछ पत्ते इस तरह की बीमारियों में काफी लाभकारी होते हैं। चलिए जानते हैं कौन-से हैं वो पत्ते-

नीम के पत्ते

नीम के पत्ते काफी गुणकारी माने जाते हैं। ये पत्ते कई तरह की बीमारियों से छुटकारा दिलाते हैं। अगर सुबह उठकर नीम के 10-12 पत्ते पीसकर पिए जाएं तो इससे चर्मरोग नहीं होता है। इसके साथ ही अगर नीम के पत्तों के सात उबाले गए पानी से सिर धोया जाए तो इससे बालों के झड़ने की समस्या काफी हद तक दूर हो जाती है।

तुलसी के पत्ते

सर्दी-खांसी होने पर अगर चाय में तुलसी के पत्ते डालकर पिए जाएं तो इससे सर्दी-खांसी में काफी आराम मिलता है। इसके अलावा अगर रोज सुबह उठकर खाली पेट तुलसी के पत्ते खाए जाएं तो कई तरह की बीमारियों से छुटकारा मिलता है।

बबूल की पत्तियां

बबूल की पत्तों को भी काफी गुणकारी माना जाता है, क्योंकि इसमें कई औषधिय गुण होते हैं। अगर कोई दांत और मसूढ़ों के दर्द से परेशान है तो वह बबूल की पत्तियों को उबालकर उसके पानी से कुल्ला कर सकता है। ऐसा करने से दांत और मसूढ़े मजबूत होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here