साइलेंट Heart Attack का जिम्मेदार कौन ?

0
140
heart attack case in india
पिछले दिनों Heart Attack के बहुत से मामले सामने आए थे..

Heart Attack: पिछले दिनों Heart Attack के बहुत से मामले सामने आए थे। यूपी (Uttar Pradesh) के कई शहरों इसका असर देखने को मिला और लोगों को जान तक गंवानी पड़ी। आजकल के समय में हार्टअटैक (Heart Attack) और स्ट्रोक (stroke) का खतरा बहुत आम हो गया है। बहुत से ऐसे कारण हैं जिनके कारण हार्ट अटैक और स्ट्रोक (stroke)  का खतरा बढ़ जाता है।

आज बहुत कारण ऐसे हो गये है जो हार्टअटैक (Heart Attack) और स्ट्रोक (stroke) के खतरें के जिम्मेदार है, जैसे स्ट्रेस लेना (stress),गलत खानपान का सेवन (diet), बेकार लाइफस्टाइल (wrong lifestyle), नींद का पूरा ना होना, सिगरेट (cigarette) और शराब  (liquor) का सेवन करना। आप अपने शरीर व स्वास्थय में होने वाले बदलावों को नजरअंदाज ना करें। जरुरी है कि आप सावधान रहें।

ये भी पढ़ें:सर्दी-खांसी का उपचार कर सकते हैं सूखी अदरक, जानिए इसके फायदे…

आईयें आपको बताते है कुछ लक्षण जिन्हे आप मामूली समस्या समझकर नजरअंदाज कर देते है। इस लापरवाही से हार्ट अटैक (Heart Attack) और स्ट्रोक (stroke) का खतरा बढ़ जाता है।

हार्टअटैक के कारण

कोलेस्ट्रॉल– कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) हमारे शरीर में मौजूद होता है और इसके बढ़ने से  धमनियों को ब्लॉक कर देता है। इस कारण हृदय तक खून (blood) सही मात्रा में नहीं पहुंच पाता।  जिसके कारण कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) हार्ट अटैक (Heart Attack) और स्ट्रोक (stroke) का खतरा बन जाता है। इस स्थिति में जरुरी है कि आप अपनी डाइट (diet) में डाइट्री फाइबर (dietary fiber), लो फैट फूड्स (fats foods) का सेवन करे।

हाइपरटेंशन- हाइपरटेंशन (hypertension) हार्ट अटैक (Heart Attack) का एक मुख्य कारण है। हाइपरटेंशन (hypertension) से ब्लड प्रेशर (blood pressure) लेवल ज्यादा बढ़ जाता है और जब ब्लड प्रेशर (blood pressure) बढ़ता है तो ह्रदय को ज्यादा काम करना पड़ता है। ऐसे में अपने ब्लड प्रेशर (blood pressure) का खास ध्यान रखें। ऐसे समय में सोडियम (sodium) और लो-फैट डाइट (low fat diet), एक्सरसाइज (exercise) करिए ताकि आपका ब्लड प्रेशर (blood pressure) लेवल कंट्रोल में रहें। स्ट्रेस ना ले और शराब का सेवन कम करें।

ये भी पढ़ें: कैसे करें सर्दी, कोरोना या एलर्जी के लक्षणों की पहचान? जानने के लिए पढ़ें ये ख़बर

मोटापा- मोटापे (fat) की वजह से आपका कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर (blood pressure)  का लेवल काफी बढ़ सकता है जिसके आपको Heart Attack और स्ट्रोक (stroke) का खतरा बढ़ जाता है। आप अपने वेट को मेनटेन करें। समय से बैलेंस डाइट लें और फिजिकल एक्टिविटीज (physical activities) करते रहें।

स्मोकिंग- ध्रूमपान करने से हार्ट अटैक (Heart Attack) का खतरा काफी बढ़ जाता है।. कई स्टडीज में यह दावा हुआ है कि जो लोग स्मोकिंग करते हैं उनमें हार्ट अटैक (Heart Attack) का खतरा 2 से 4 गुना ज्यादा बढ़ जाता है। क्योंकि ध्रूमपान करने से दिल तक पहुंचने वाली ऑक्सीजन (oxygen) की मात्रा कम हो जाती है और ब्लड प्रेशर (blood pressure) बढ़ जाता है। इससे ब्लड क्लॉटिंग (blood clotting) का खतरा बढ़ जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here