आजादी के सात दशक बाद भी हरदोई के इस गांव तक नहीं बन पाई सड़क

ग्रामीणों ने बताया कि जिलाधिकारी से लेकर क्षेत्रीय विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह 'रानू' से भी सड़क के लिए गुहार लगा चुके हैं।

0
727
Uttar Pradesh News
ग्रामीणों ने बताया कि जिलाधिकारी से लेकर क्षेत्रीय विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह 'रानू' से भी सड़क के लिए गुहार लगा चुके हैं।

Hardoi: देश को आजाद हुए सात दशक बीत चुके हैं। देश आज डिजिटल इंडिया की तरफ तेजी से कदम बढ़ा रहा है। पर, कुछ क्षेत्र ऐसे हैं, जहां आज भी विकास की किरण नहीं पहुंची है। ऐसा ही हाल हरदोई जनपद की सवायजपुर (Swaijpur) विधानसभा के धरमपुर (Dharampur) गांव का है। जहां आजादी के सात दशक बीत जाने के बाद भी आज तक गांव तक पहुंचने के लिए सड़क नहीं बनी है।

UP पुलिस ने मुर्दे को भेजा शांति भंग का नोटिस, कहा-कोर्ट में जमा करें जुर्माना राशि

हरपालपुर (Harpalpur) ब्लाक के धरमुर गांव को जाने वाली सड़क आज भी डामर के लिए तरस रही है। अर्जुनपुर बड़ागांव संपर्क मार्ग से धरमपुर गांव की ओर जाने वाली सड़क गंभीरी नदी से होकर गुजरती है। सड़क की लंबाई तकरीबन दो किलोमीटर है। जोकि आज तक धूल की चादर से लिपटी हुई है। यह मार्ग कटियारी क्षेत्र के हजारों लोगों का मुख्यमार्ग है। इस मार्ग पर प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोगों का आवागमन होता है। इस कच्ची सड़क के जरिए धरमपुर के अलावा धनियामऊ, बूँदापुर, कतरनापुर, बारी, सरी, शरेसर, समेत सैकड़ो गाँव के लोग इस रास्ते से गुजरते हैं। इसके बावजूद आज तक प्रशासन ने ग्रामीणों की समस्या का समाधान नहीं निकाला।

गन्ने का रेट न बढ़ने से किसानों में नाराजगी, मायावती सरकार में 92 फीसदी की हुई थी बढ़ोत्तरी

जान जोखिम में डालकर स्कूल जाते हैं बच्चे

बर्षात के दिनों में इस सड़क से गुजरते वक्त़ काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बर्षात के दिनों में बच्चों का स्कूल जाना मुश्किल हो जाता है। गांव के सैकड़ों स्कूली छात्र (Students) जान को जोखिम में डालकर पढ़ने के लिए स्कूल जाते हैं। बर्षात के दिनों में इसपर साइकिल तो दूर पैदल चलने में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

ग्रामीणों का कहना है कि हर बार चुनाव के समय नेताओं के द्वारा सड़क बनवाने का आश्वासन दिया जाता है, लेकिन चुनावों के बाद कोई भी नेता गांव की तरफ नहीं देखता है। लोगों ने बताया कि जिलाधिकारी से लेकर क्षेत्रीय विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह ‘रानू’ (Madhvendra Pratap Singh Ranu) से भी सड़क के लिए गुहार लगा चुके हैं। इसके बावजूद आज तक ग्रामीणों को कच्ची सड़क से आजादी नहीं मिली है।

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here