सबरीबाला मंदिर के कपाट खुले, 10 महिलाओं को पुलिस ने वापस लौटाया

सबरीमाला मंदिर परंपरा के अनुसार 10 से 50 वर्ष के बीच की उम्र की महिलाओं का मंदिर में प्रवेश वर्जित है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी को हटा रखा है..

0
703
सबरीमाला मंदिर

नई दिल्ली। सबरीमाला मंदिर को मंडल पूजा के लिए खोल दिया गया है। आधिकारिक तौर पर रविवार को खुलने वाले इस मंदिर को शनिवार शाम पूजारियों द्वारा धार्मिक अनुष्ठान के लिए खोला गया। इस दौरान केरल पुलिस ने दर्शन को आए श्रद्धालुओं में से 10 महिलाओं को पहचान पत्र देखने के बाद मंदिर में जाने से रोक दिया।

जानकारी के मुताबिक वापस लौटाई गयी महिलाओं की उम्र 10 से 50 वर्ष के बीच थी। आपकों बता दें कि सबरीमाला मंदिर परंपरा के अनुसार 10 से 50 वर्ष के बीच की उम्र की महिलाओं का मंदिर में प्रवेश वर्जित है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी को हटा रखा है, इसके साथ ही कोर्ट ने 28 सितंबर 2018 के सबरीमाला पर आये फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर फैसला आने तक सबरीमाला में सभी उम्र की महिलाओं का प्रवेश जारी रखने का आदेश दिया है।

ये भी पढ़े:सबको साथ मिलेगी सैलरी, ‘वन नेशन-वन पे डे सिस्टम’ लागू करने की तैयारी में मोदी सरकार

पिछले साल छावनी में तबदील सबरीमाला मंदिर में शनिवार को शांति रही। वहीं केरल सरकार ने इस बार महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में ले जाने के लिए कोई कदम नहीं उठाने का फैसला किया है। बता दें कि पिछले साल केरल पुलिस ने महिलाओं दर्शन कराने के लिए सुरक्षा प्रदान की थी। जिसका दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने काफी विरोध किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here