नीट और जेईई मेन परीक्षा पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

याचिका में कोरोना वायरस महामारी का जिक्र करते हुए राष्ट्रीय परीक्षा एजेन्सी (NTA) की तीन जुलाई की नोटिस रद्द करने का अनुरोध किया गया था।

0
331
NEET JEE Main
नीट और जेईई मेन परीक्षा पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

Delhi: सोमवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने नीट और जेईई मेन (NEET JEE Main) को स्थगित करने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया। आपको बता दें कि याचिका में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते सितंबर में प्रस्तावित जेईई मेन (JEE Main) और नीट यूजी (NEET UG) परीक्षाओं को टालने की मांग की गई थी। जस्टिस अरुण कुमार मिश्रा, जस्टिस बी आर गवई और जस्टिस कृष्ण मुरारी की खंडपीठ ने यह कहते हुए याचिका खारिज कर दी कि कोरोना के कारण देश में सब कुछ रोका नहीं जा सकता। जस्टिस मिश्रा ने कहा, “क्या देश में सब कुछ रोक दिया जाये? (बच्चों का) एक कीमती साल को यूं ही बर्बाद हो जाने दिया जाये?”

देश में 26 हजार के पार पहुंचे कोरोना के मामले, पिछले 24 घंटों में 57,982 नए केस दर्ज

खंडपीठ ने कहा कि उसने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता की दलीलों को रिकॉर्ड में लिया है कि जेईई और नीट (NEET JEE Main) परीक्षाएं पर्याप्त सावधानियों के साथ आयोजित की जायेंगी। जेईई परीक्षा 1 सितंबर से 6 सितंबर तक आयोजित की जाएगी, वहीं नीट परीक्षा 13 सितंबर को आयोजित की जाएगी। जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद एक दो दिन में कभी भी जेईई मेन के एडमिट कार्ड जारी हो सकते हैं। जस्टिस अरुण मिश्रा की अगुवाई वाली बेंच ने कहा कि कोविड-19 के दौर में भी जिंदगी चलती रहेगी। कोर्ट नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के फैसले में दखल देकर स्टूडेंट्स का करियर खतरे में नहीं डालना चाहती।

मासिक पूजा के लिए केरल के सबरीमाला मंदिर को खोला गया, भक्तों के प्रवेश पर अभी भी रोक

वही याचिकाकर्ता के वकील अलख आलोक श्रीवास्त का पक्ष था कि कोविड-19 की वैक्सीन बन रही है। हम परीक्षा को हमेशा के लिए टालने के लिए नहीं कह रहे हैं। लेकिन कोर्ट को याचिका में कुछ दम नहीं लगा। बेंच ने कहा, ‘आप लोगों (लॉयर्स) ने फिजिकल कोर्ट खोलने की मांग की है। लेकिन आप चाहते हैं कि परीक्षा स्थगित हो जाए। परीक्षा का स्थगित होना देश का नुकसान है।’ गौरतलब है कि 11 राज्यों के 11 छात्रों ने देश में तेजी से बढ़ रहे कोविड-19 महामारी के मामलों की संख्या के मद्देनजर जेईई मेन और नीट यूजी परीक्षाएं स्थगित करने के अनुरोध के साथ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

जमीनी विवाद में खूनी संघर्ष, जमकर चले लाठी-डंडे

याचिका में कोरोना वायरस महामारी का जिक्र करते हुए राष्ट्रीय परीक्षा एजेन्सी (NTA) की तीन जुलाई की नोटिस रद्द करने का अनुरोध किया गया था। इन नोटिस के माध्यम से ही एनटीए ने संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मुख्य, अप्रैल, 2020 और राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट-यूजी) सितंबर में कराने का निर्णय लिया है। याचिका में प्राधिकारियों को सामान्य स्थिति बहाल होने के बाद ही इन परीक्षाओं को आयोजित करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया था। परीक्षा स्थगित की मांग वाली याचिका खारिज होने के बाद वह याचिका वापस ले ली गई जिसमें दोनों प्रवेश परीक्षाओं को तय शेड्यूल के मुताबिक कराने की मांग की गई थी।

बॉलीवुड डायरेक्टर निशिकांत कामत का 50 साल की उम्र में हुआ निधन

आपको बता दें कि पिछले कुछ समय से जेईई मेन व नीट अभ्यर्थी भी ट्विटर पर लगातार परीक्षा कोविड-19 महामारी के बीच सितंबर में कराने के खिलाफ अभियान चला रहे हैं। वह हैश टैग #postponeNEETandJEE के साथ केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखिरियाल निशंक (@DrRPNishank), एनटीए (@DG_NTA) और मानव संसाधन विकास मंत्रालय (@HRDMinistry) को टैग करते हुए लगातार ट्वीट कर रहे हैं। उनकी मांग है कि कोविड-19 संक्रमण की आशंका और यात्रा संबंधी दिक्कतों के चलते परीक्षा स्थगित होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here