Rajasthan Political crisis update: HC के फैसले पर लगी रोक, SC ने किया इंकार

राजस्थान के हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशीकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई। जस्टिस अरूण मिश्रा, बी आर गवई और कृष्ण मुरारी की पीठ ने इस याचिका पर सुनवाई की।

0
386
Rajasthan Political crisis update

Rajasthan: राजस्थान संकट को लेकर उच्चतम न्यायालय में सुनवाई जारी है। यह सुनवाई विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की याचिका पर हो रही है। जोशी की तरफ से अदालत में कपिल सिब्बल दलीलें दे रहे हैं। जोशी (Rajasthan Political crisis update) ने सचिन पायलट सहित कांग्रेस के 19 विधायकों के खिलाफ कार्यवाही को 24 जुलाई तक रोकने के हाईकोर्ट (Rajasthan Highcourt) के आदेश को चुनौती दी है।

Rajasthan Political Crisis: पायलट खेमे को मिली राहत, अब 24 जुलाई को आएगा फैसला

वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट में कहा – “हाईकोर्ट स्पीकर को आदेश नहीं दे सकता, (Rajasthan Political crisis update) न्यायालय निर्णय का समय बढ़ाने के लिए स्पीकर को निर्देश नहीं दे सकता। जब तक अंतिम निर्णय स्पीकर द्वारा नहीं लिया जाता है, तब तक न्यायालय से कोई हस्तक्षेप नहीं हो सकता है। जोशी की इस याचिका पर पायलट खेमे ने कैविएट दाखिल कर कहा है कि बिना उनका पक्ष सुने कोई फैसला ना किया जाए।

सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई के दौरान कहा कि वह इस पूरे मामले को कानून के तहत सुनेगा। सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान हाई कोर्ट के फैसले पर रोक से इनकार किया। लेकिन जब सुप्रीम कोर्ट इसपर फैसला सुनाएगा तब हाई कोर्ट के फैसले को परखा जाएगा। राजस्थान हाई कोर्ट कल यानी शुक्रवार 24 जुलाई को बागी सचिन पायलट के गुट की अपील सुनाएगा।राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश को तब तक लागू नहीं किया जाएगा, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट स्पीकर द्वारा उठाए गए बड़े सवाल का फैसला नहीं कर देता। अब इस मामले की सोमवार को भी सुनवाई करेगा।

Rajasthan Politics: राजस्थान में चल रही सियासी हलचल पर आज आएगा फैसला

बता दें कि राजस्‍थान में सत्‍ता को लेकर मचे हंगामे के बीच मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। उनेहोंने पत्र में अपनी सरकार को गिराने की साजिश रचे जाने का आरोप लगाया है। पीएम को लिखे पत्र में सीएम गहलोत ने लिखा है कि राज्यों में चुनी हुई सरकारों को लोकतांत्रिक मर्यादाओं से हटकर हॉर्स ट्रेडिंग के माध्यम से सरकार गिराने के लिए कई निंदा जनक प्रयास किए जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here