साथ भले ही पर सावरकर का अपमान मंजूर नहीं, शिवसेना ने कांग्रेस को दी ये नसीहत

दिल्ली के रामलीला मैदान में जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 'रेप इन इंडिया' वाले बयान पर माफी मांगने से मना किया और सावरकर का जिक्र किया तो महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल मच गई। सावरकर को हिंदुत्व का हीरो मानने वाली शिवसेना ने तल्ख लहजे में कहा कि राहुल गांधी तो क्या कोई भी सावरकर का अपमान नहीं कर सकता।

0
1011

नई दिल्ली: दिल्ली के रामलीला मैदान में जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘रेप इन इंडिया’ वाले बयान पर माफी मांगने से मना किया और सावरकर का जिक्र किया तो महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल मच गई। सावरकर को हिंदुत्व का हीरो मानने वाली शिवसेना ने तल्ख लहजे में कहा कि राहुल गांधी तो क्या कोई भी सावरकर का अपमान नहीं कर सकता।

शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट कर लिखा, ‘हम पंडित नेहरू, महात्मा गांधी को भी मानते हैं, आप वीर सावरकर का अपमान ना करें, समझने वाले समझ गये है ।” इसके साथ ही उन्होंने अन्य ट्वीट में लिखा कि सावरकर आज भी देश के नायक हैं और आगे भी नायक ही बने रहेंगे। वीर सावरकर हमारे देश का गर्व हैं।”

राहुल गांधी के सावरकर का नाम लेने पर शिवसेना इतनी बौखला गई कि संजय राउत ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की लाइनों को दोहराते हुए लिखा, सावरकर माने तेज, सावरकर माने त्याग, सावरकर माने तप, सावरकर माने तत्व।’

महाराष्ट्र में भले ही शिवसेना ने कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना ली हो, लेकिन विचारधारा के मामले में दोनों पार्टियां अलग हैं। कांग्रेस सावरकर को जहां वैचारिक रूप से अछूत मानते हैं, वहीं सावरकर शिवसेना के लिए हीरो हैं। ऐसे में अगर कोई सावरकर का नाम लेकर कोई गलत उदाहरण दे, तो भला शिवसेना चुप कैसे बैठ सकती है।

जानकारी के लिए बता दें कि कांग्रेस ने शनिवार से दिल्ली के रामलीला मैदान में भारत बचाओ रैली में ‘रेप इन इंडिया’ वाले बयान पर माफी मांगने से इंकार करते हुए कहा कि उनका नाम राहुल गांधी है, राहुल सावरकर नहीं। वह मर जाएंगे पर माफी नहीं मांगेंगे। राहुल के इस बयान को लेकर अब शिवसेना की प्रतिक्रिया सामने आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here